भारत चीनी निर्यात में कर रहा है अच्छा प्रदर्शन

259

नई दिल्ली: भारत वर्त्तमान सीजन में चीनी निर्यात में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। न्यूज एजेंसी पीटीआई में प्रकाशित खबर के मुताबिक, केन्द्रीय खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने कहा कि, इस साल भारत का चीनी निर्यात अच्छा रहा है, क्योंकि अब तक लगभग 50 लाख टन का अनुबंध किया गया है। केंद्र सरकार ने चल रहे 2020-21 सीज़न (अक्टूबर-सितंबर) के लिए 60 लाख टन चीनी का निर्यात लक्ष्य निर्धारित किया है। 2019-20 के मौसम के दौरान, ब्राजील के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक देश, भारत ने 59 लाख टन चीनी का निर्यात किया था। इस सीजन में 50 लाख टन से अधिक चीनी पहले ही अनुबंधित हो चुकी है। इस वर्ष अब तक अधिकांश चीनी इंडोनेशिया, अफगानिस्तान और यूएई को निर्यात की गई है।

चीनी उद्योग को समर्थन देने के लिए केंद्र सरकार द्वारा चीनी निर्यात नीति की घोषणा की गई थी। पांडे ने कहा कि, आर्थिक तरलता की कमी से परेशान मिलों को गन्ना किसानों को समय पर भुगतान करने के लिए चीनी निर्यात की अनुमति दी गई थी। निर्यात के अलावा, मिलों को भी इथेनॉल उत्पादन के लिए प्रोत्साहित किया गया। अधिक जानकारी देते हुए, खाद्य संयुक्त सचिव सुबोध गुप्ता ने कहा, तरलता चीनी उद्योग के लिए एक बड़ी समस्या है। हम इन मुद्दों को दो तरीकों से हल कर रहे हैं – एक अधिशेष चीनी निर्यात कर रहा है और दूसरा इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देना ।

चीनी निर्यात पर, गुप्ता ने कहा कि, निर्यात मोर्चे पर प्रगति अच्छी रही है। प्रारंभ में, लोजिस्टिक्स समस्याएं और कंटेनरों का मुद्दा था, लेकिन अब निर्यात सुचारू है। इस साल, हमे जून तक रिकॉर्ड समय में चीनी का निर्यात होने की उम्मीद है। जो पैसा मिलों को निर्यात से या इथेनॉल उत्पादन से प्राप्त होगा उसे किसानों को गन्ने का भुगतान करने के लिए उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इन उपायों से मिलों की तरलता की स्थिति में सुधार हुआ है और गन्ना बकाया भी धीरे-धीरे कम हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here