भारत 2025 तक 20 प्रतिशतत एथेनॉल सम्मिश्रण हासिल करने की राह पर

76

नई दिल्ली: इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने शुक्रवार को कहा कि, भारत 2025 तक 20% एथेनॉल मिश्रण हासिल करने की राह पर है। एक बैठक को संबोधित करते हुए, इस्मा के महानिदेशक अविनाश वर्मा ने कहा कि, देश मौजूदा 8.2 प्रतिशत से 2025 तक 20% प्रतिशत एथेनॉल उत्पादन करने में कामयाब हो सकता है।

2021 में, देश में उत्पादन क्षमता 6 बिलियन लीटर है, जिसमें शीरा-आधारित क्षेत्र और स्टैंडअलोन शीरा इकाइयों से 5 बिलियन लीटर शामिल है। वर्मा ने कहा कि कई प्रोत्साहनों (केंद्र और अब कई राज्यों द्वारा) के साथ, निवेशकों द्वारा एथेनॉल उत्पादन क्षमता स्थापित करने के लिए भारी रुचि दिखाई जा रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र के पास करीब 800 परियोजनाओं का पंजीकरण किया गया है। कुछ चीनी कंपनियां दोहरे फ़ीड एथेनॉल संयंत्र स्थापित कर रही हैं, जहां गन्ना और मोलासेस के अलावा मकई और अनाज का उपयोग किया जा सकता है। इसलिए, 2025 तक, लगभग 10 बिलियन लीटर एथेनॉल के उत्पादन और आपूर्ति के लिए पर्याप्त क्षमता की उम्मीद है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here