भारत सरकार का एथेनॉल के साथ साथ हरित ऊर्जा इस्तेमाल को बढ़ावा : केनिची आयुकावा

70

नई दिल्ली : मारुति सुजुकी लिमिटेड के पूर्व प्रबंध निदेशक, सीईओ और सोसाइटी ऑफ इंडिया ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) के अध्यक्ष केनिची आयुकावा के अनुसार, भारतीय ईवी उद्योग वैश्विक क्षेत्र में हरित ऊर्जा वाहन बाजार में भारत का दबदबा निर्माण करने की उम्मीद है।उन्होंने कहा, इलेक्ट्रिक व्हीकल (ईवी) सेगमेंट भारत में तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। ईवी उद्योग के साथ, सरकार का ध्यान 2070 तक ‘शुद्ध शून्य उत्सर्जन’ प्राप्त करने और भविष्य में शत प्रतिशत एथेनॉल संचालित वाहनों के इस्तेमाल पर है।

आयुकावा ने कहा, भारत में इलेक्ट्रिक कारों की बाजार हिस्सेदारी 2030 तक 30 प्रतिशत तक बढ़ने की उम्मीद है।भारत के समग्र ईवी बाजार में 2021-2030 के बीच 49 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ने की उम्मीद है। यह 17 मिलियन यूनिट की वार्षिक बिक्री तक पहुंच जाएगा और इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन लगभग 15 मिलियन यूनिट की बिक्री के साथ बाजार में तेजी से अपना हिस्सा बढ़ा रहे है।शेष 2 मिलियन यूनिट में मुख्य रूप से इलेक्ट्रिक यात्री वाहन शामिल होने की संभावना है। उन्नत ऑटोमोटिव उत्पाद (एएटी) नए प्रवेशकों के लिए दरवाजे खोलने के साथ-साथ मौजूदा खिलाड़ियों के लिए दायरा बढ़ाएंगे।

गुजरात में सुजुकी मोटर कॉरपोरेशन के आगामी लिथियम बैटरी प्लांट और वेदांता के साथ-साथ फॉक्सकॉन द्वारा उसी राज्य में 1,000 एकड़ में सेमीकंडक्टर प्लांट स्थापित करने जैसे हालिया घटनाक्रम इस दिशा में कदम हैं।आयुकावा ने यह भी बताया कि भारत ऑटो क्षेत्र में 100 प्रतिशत आत्मनिर्भर होगा और नए खिलाड़ियों के साथ उद्योग का विस्तार होगा और अधिक निवेश से इस विकास में तेजी आने की संभावना है।जहां ईवीएस निश्चित रूप से हरित ऊर्जा वाहन क्षेत्र में बड़ी बाजार हिस्सेदारी हासिल करने का बीड़ा उठाएंगे, वहीं फ्लेक्स ईंधन और हाइड्रोजन से चलने वाले वाहन भी इस उपलब्धि को हासिल करने में महत्वपूर्ण योगदान देंगे। केंद्रीय सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्री (MoRTH) नितिन गडकरी फ्लेक्स-फ्यूल और हाइड्रोजन पावर्ड मॉडल लॉन्च करने पर जोर दे रहे हैं और इस साल 28 सितंबर को भारत की पहली फ्लेक्स-फ्यूल कार पेश करने के लिए तैयार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here