इस तरह भारतीय चीनी, ईरान के ‘तेल के बदले पैसे’ के मुश्किल को करेगी ठीक

794

 

To Listen To This News Click On A Button Below To The Image.

नई दिल्ली : चीनी मंडी

ईरान की सरकारी ट्रेडिंग कॉरपोरेशन भारतीय मिलों से 150,000 टन कच्ची चीनी खरीदेगी और युको बैंक द्वारा ‘एस्क्रो खातों’ से रुपये का भुगतान करेगा। अमेरिका द्वारा प्रतिबंध लागू करने के बाद, ईरान ने व्यापारिक तेल से संचित नकदी का उपयोग करने के लिए एक ‘मीठा’ तरीका अपनाया और वो है भारत से चीनी की खरीद।

ईरान, भारत को तेल की बिक्री से बने रुपयों को भारत में खर्च करने के लिए संघर्ष कर रहा हैं। दूसरी ओर, बंपर फसल के बाद भारत में चीनी का भंडार बढ़ता ही जा रहा है। अब दोनों ने एक ऐसा सौदा किया है, जो कुछ हद तक एक-दूसरे के संकट को कम करता है। ईरान की सरकारी ट्रेडिंग कॉरपोरेशन युको बैंक में ‘एस्क्रो खातों’ से रुपये का भुगतान करके मार्च-अप्रैल में डिलीवरी के लिए भारतीय मिलों से 150,000 टन कच्ची चीनी खरीदेगी।

यह भुगतान तंत्र भारत को अपने कच्चे तेल का लगभग 80 प्रतिशत आयात करने की अनुमति देगा, इस शर्त का पालन करने के लिए कि प्रतिबंधों से प्रत्यक्ष अमेरिकी छूट के लिए ईरान को प्रत्यक्ष रूपये हस्तांतरण की मनाई है। ईरान का रास्ता भारत के चीनी भंडार के लिए एक आउटलेट भी खोलता है क्योंकि स्थानीय उत्पादन लगातार दूसरे वर्ष की मांग से अधिक है। भारत संभावित रूप से ईरान को अधिक उत्पाद बेच सकता था। भारत के डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ कमर्शियल इंटेलिजेंस एंड स्टैटिस्टिक्स के अनुसार, भारत ने पिछले साल ईरान  से 12.6 बिलियन डॉलर का कच्चा तेल आयात किया, जबकि निर्यात की हुई बासमती चावल, तिलहन भोजन और चाय जैसे सामानों की कीमत केवल 2.9 बिलियन डॉलर थी।

Download Our ChiniMandi News App :  http://bit.ly/ChiniMandiApp

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here