भारत तीन वर्ष में पहली बार करेगा कच्ची चीनी निर्यात: मिलों द्वारा अनुबंधों पर हस्ताक्षर

675

नई दिल्ली : चीनी मंडी

अधिशेष चीनी की वजह से संघर्ष कर रहा दुनिया का दुसरे नम्बर का चीनी उत्पादक भारत तीन वर्ष में पहली बार कच्ची चीनी निर्यात करने जा रहा है। न्यूयॉर्क के वायदा बाजार में चीनी की कीमते सात महीने के उच्चतम स्तर पर पहुँच चुकी है, चीनी कीमतों में रैली और साथ ही निर्यात के लिए आकर्षक सरकारी सब्सिडी के कारण तीन साल में पहली बार भारत कच्ची चीनी निर्यात करने जा रहा है ।

डॉलर के मुकाबले रूपया कमजोर होने से निर्यात में बढ़ोतरी ?

हाल ही में जब तक चीनी की वैश्विक कीमतें घरेलू बाजार से बहुत कम थीं, तब तक दुनिया के दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक मिल्स नए निर्यात अनुबंधों पर हस्ताक्षर करने के लिए अनिच्छुक थे, लेकिन अंतरराष्ट्रीय कच्ची चीनी की कीमतों में एक रैली के साथ रुपया की डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड स्तर कीमत कम होने के कारण कच्ची चीनी निर्यात को व्यवहार्य बना दिया गया है। डीलरों ने कहा कि, मिलों ने नवंबर-दिसंबर में शिपमेंट के लिए फ्री-ऑन-बोर्ड (एफओबी) आधार पर प्रति टन 280 डॉलर पर 150,000 टन कच्ची चीनी के निर्यात के लिए अनुबंध किया है।

ब्राजील और थाईलैंड की बाजार की हिस्सेदारी होगी कम

जादा से जादा भारतीय चीनी निर्यात वैश्विक कीमतों पर दबाव डाल सकती हैं और दुनिया के शीर्ष दो चीनी आपूर्तिकर्ता प्रतिद्वंद्वियों ब्राजील और थाईलैंड के बाजार हिस्सेदारी को कम कर सकते हैं। भारतीय मिलें पारंपरिक रूप से स्थानीय खपत के लिए सफेद चीनी का उत्पादन करते हैं, लेकिन इस साल वे कच्ची चीनी को निर्यात करने की योजना बना रहे हैं क्योंकि देश को दूसरे वर्ष भी अधिशेष फसल का सामना करना पड़ रहा है।

पिछले कुछ दिनों में चीजें भारतीय चीनी मिलों के पक्ष में : ठोम्बरे

वेस्टर्न इंडिया शुगर मिल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.बी. ठोम्बरे ने कहा की , पिछले कुछ दिनों में अचानक चीजें भारतीय चीनी मिलों के पक्ष में बढ़ रही हैं। न्यूयॉर्क वायदा बाजार में कच्ची चीनी के दाम बढ़ रहे हैं, रुपया कमजोर है और सरकार ने निर्यात के लिए प्रोत्साहन दे दी है। भारत ने पिछले महीने 2018/19 सीजन में अधिशेष चीनी निर्यात करने के लिए नकदी से भरे मिलों को प्रोत्साहित करने के लिए किसानों को निर्यात के लिए परिवहन सब्सिडी और प्रत्यक्ष गन्ना भुगतान जैसे प्रोत्साहनों को मंजूरी दे दी थी।

अक्टूबर-दिसंबर में शिपमेंट के लिए 1,00,000 टन सफेद चीनी निर्यात का अनुबंध

वैश्विक व्यापारिक कंपनी के साथ जुड़े मुंबई स्थित डीलर ने कहा कि, कई चीनी मिलें पिछले महीने के कैबिनेट के फैसले के बाद सरकार की अधिसूचना की प्रतीक्षा कर रहे थे। जैसा कि शुक्रवार को अधिसूचना प्रकाशित हुई तो मिलों ने निर्यात सौदों पर हस्ताक्षर करना शुरू कर दिया है। मार्च में, भारत ने मिलों से 2 लाख मेट्रिक टन चीनी निर्यात करने के लिए कहा और प्रत्येक मिल के लिए एक अनिवार्य निर्यात कोटा तय किया। कच्चे चीनी के अलावा, मिलों ने 305 डॉलर प्रति टन, एफओबी पर अक्टूबर-दिसंबर में शिपमेंट के लिए लगभग 100,000 टन सफेद चीनी निर्यात करने का अनुबंध किया है। सफेद चीनी मध्य पूर्व और अफ्रीकी देशों में जा रही हैं।

2017-18 में केवल 4,50,000 टन चीनी निर्यात

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (आईएसएमए) के महानिदेशक अबीनाश वर्मा ने कहा कि, 2017/18 विपणन वर्ष में चीनी मिलें केवल 4,50,000 टन निर्यात करने में कामयाब रही, जो असंगत कीमतों के कारण 30 सितंबर को समाप्त हुआ। वर्मा ने कहा कि, मिल्स चालू वर्ष में 5 लाख मेट्रिक टन के निर्यात लक्ष्य को हासिल करने की कोशिश करेंगे। ‘आईएसएमए’ के अनुमानों के मुताबिक भारत 10 लाख मेट्रिक टन से अधिक चीनी के अधिशेष के साथ नया सीजन शुरू कर सकता है और नए सीजन में 35 लाख मेट्रिक टन उत्पादन कर सकता है। भारतीय सालाना लगभग 25 लाख मेट्रिक टन चीनी का उपभोग करते हैं।

दक्षिण एशियाई देश कर सकते है 4 लाख मेट्रिक टन चीनी निर्यात

सूत्रों ने कहा की, सीजन की शुरुआत में भारतीय मिलों द्वारा निर्यात के लिए कच्ची चीनी का उत्पादन होगा, क्योंकि घरेलू चीनी मांग को पूरा करने के लिए पिछले साल की अधिशेष चीनी को पर्याप्त मात्रा में आगे बढ़ना है। दक्षिण एशियाई देश 2018/19 में 4 लाख मेट्रिक टन चीनी निर्यात कर सकते है, जिसमें करीब 2.5 लाख मेट्रिक टन कच्ची चीनी शामिल हैं। 2007/08 में भारत ने रिकॉर्ड 2.7 कच्ची टन कच्ची चीनी और 2.26 कच्ची टन सफेद चीनी का निर्यात किया था ।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here