भारतीय वायुसेना जैव ईंधन-मिश्रित एटीएफ का इस्तेमाल करेगी…

691

नई दिल्‍ली : भारत, जो अपनी तेल जरूरतों का 80 प्रतिशत तक आयात करता है, जैव ईंधन रिफाइनरियों की स्थापना पर 1.5 बिलियन खर्च करेगा, जो लगभग 15,000 लोगों को रोजगार देने की उम्मीद है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 अगस्त को कहा कि, इथेनॉल मिश्रण देश को आयात बिलों पर सालाना 1.7 अरब डॉलर बचाने में मदद कर सकता है।

एक सरकारी अधिकारी ने कहा की, भारतीय वायु सेना (आईएएफ) जल्द ही एंटोनोव -32 की तरह अपने परिवहन विमान उड़ाने के लिए इथेनॉल मिश्रित वायु टर्बाइन ईंधन (एटीएफ) का उपयोग शुरू कर देगी। हमने अतीत में भारतीय वायुसेना जेट पर इथेनॉल मिश्रित वायु टर्बाइन ईंधन का उपयोग करने की योजना पर चर्चा की है। हमें आशा है कि इस साल के अंत तक परिवहन विमान इस ईंधन का उपयोग कर उड़ जाएगा।

इससे पहले 27 अगस्त को, भारत के पहले 72-सीटर जैव ईंधन संचालित नागरिक विमान ने नई दिल्ली से देहरादून तक लंबी यात्रा पूरी की थी। इस नागरिक विमान ने 25% जैव ईंधन और 75% एटीएफ पर उड़ान भर थी।

भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 8 सितंबर को घोषणा करते हुए कहा कि, देश में12 बायो-रिफाइनरियां स्थापित की जा रही हैं और 10% इथेनॉल मिश्रण प्राप्त करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। प्रधान ने कहा, जल्द ही, जैव-एटीएफ और जैव-सीएनजी नीतियां तैयार की जाएंगी। इसके अलावा, इस साल मई में, भारत सरकार ने गन्‍ने के रस के इथेनॉल उत्पादन के लिए उपयोग की अनुमति देकर कच्चे माल के दायरे का विस्तार करने वाली एक नई नीति को मंजूरी दी।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here