अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये में भारी गिरावट

55

नई दिल्ली : इक्विटी में भारी बिकवाली, मुद्रास्फीति के बढ़ते दबाव और कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण भारतीय रुपया मंगलवार को 78.59 प्रति अमेरिकी डॉलर के नए सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया। फरवरी के बाद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें 100 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल के निशान से ऊपर रही हैं, और भारत में मुद्रास्फीति भी इस समय काफी उपरी स्तर पर है। कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों ने एक बार फिर मुद्रास्फीति के मोर्चे पर चिंता बढाई हैं। यह स्थिति केंद्रीय बैंकों के दरों में बढ़ोतरी के लिए और देश को मंदी की ओर ले जाने का कारण बन सकती है।

विश्लेषकों के अनुसार, साल के अंत तक रुपये की कीमत 80/81 के स्तर तक गिर जाएगी क्योंकि राजकोषीय घाटा और चालू खाता घाटा उभरते बाजार पर मुद्रा पर दबाव डालते हैं। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने पिछले आठ से नौ महीनों तक लगातार देश से पैसा निकाला है, जिससे घरेलू मुद्रा पर दबाव पड़ने की संभावना है। आमतौर पर, भारतीय रिजर्व बैंक रुपये में भारी गिरावट को रोकने के लिए डॉलर की बिक्री सहित तरलता प्रबंधन के माध्यम से बाजार में हस्तक्षेप करता है। 17 जून को समाप्त हुए सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 5.87 अरब डॉलर घटकर 590.588 अरब डॉलर रह गया।देश का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार तीसरे हफ्ते गिरा था। समीक्षाधीन तीन हफ्तों में इसमें 10.785 अरब डॉलर की गिरावट आई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here