भारतीय मिलों द्वारा इस सीजन 70 लाख टन चीनी निर्यात की संभावना

189

नई दिल्ली: भारतीय चीनी मिलें मौजूदा सीजन के दौरान पिछले साल की तुलना में लगभग 18 प्रतिशत अधिक (एक मिलियन टन) चीनी का निर्यात करने की संभावना हैं, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय कीमतें निर्यात के लिए काफी अनुकूल हैं।

डेक्कन हेराल्ड डॉट कॉम प्रकाशित खबर के मुताबिक, इंडियन शुगर मिल्सअसोसिएशन (इस्मा) के महानिदेशक अविनाश वर्मा ने कहा की, इस स्तर पर, हम अनुमान नहीं लगा सकते हैं कि कितना निर्यात किया जा सकता है। अभी तीन महीने पहले हम बिना सब्सिडी के निर्यात नहीं कर सकते थे। ब्राजील में कम उत्पादन और थाईलैंड से उत्पादन में अपेक्षित गिरावट को देखते हुए कीमतें बढ़ रही हैं। भारतीय चीनी मिलों के लिए इस वर्ष बहुत अधिक निर्यात करने का अवसर है।

वर्मा ने कहा कि, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आकर्षक कीमतों के कारण भारतीय चीनी मिलें इस साल निर्यात कोटे से कम से कम दस लाख टन अधिक निर्यात कर सकती हैं। उन्होंने कहा, महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे बंदरगाह आधारित राज्य उत्तर प्रदेश की मिलों से अधिक निर्यात कर सकते हैं, जो घरेलू बाजार में बेचकर खुश हैं।

अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि ब्राजील और थाईलैंड से कम चीनी उत्पादन की उम्मीद के कारण हुई है। कच्चे तेल की ऊंची कीमतों के कारण ब्राजील गन्ने का उपयोग इथेनॉल उत्पादन की ओर बढ़ा रहा है। ब्राजील का चीनी उत्पादन इस साल लगभग 70 लाख टन कम रहने की संभावना है।

अंतरराष्ट्रीय बाजारों में मौजूदा कीमतें भारत में ‘एक्स मिल’ कीमतों के लगभग बराबर हैं। वर्मा ने कहा कि, मिल मालिकों को निर्यात करने में खुशी होगी अगर उन्हें भारत में पूर्व-मिल कीमतों से एक रुपया भी कम मिलता है क्योंकि इससे उन्हें अगले पेराई सत्र से पहले अपने स्टॉक को कम करने का मौका मिलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here