आने वाले दिनों में चीनी के निर्यात में हो सकती है बढ़ोतरी: अधीर झा

269

कोरोनो वायरस महामारी से बचाव के लिए देशव्यापी लॉकडाउन चल रहा है। इस लॉकडाउन में चीनी की घरेलू बिक्री और निर्यात को झटका लगा है। चीनी उद्योग के सामने वित्तीय संकट आ गई है। उद्योग के कुछ विशेषज्ञ चीनी के निर्यात के प्रति आशावान है।

इंडियन शुगर एक्जिम कार्पोरेशन लिमिटेड (ISEC) के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ अधीर झा ने भारतीय चीनी निर्यात पर चीनी मंडी न्यूज़ के साथ अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा कि चीनी उद्योग अब तक 3.5 मिलियन मेट्रिक टन चीनी निर्यात अनुबंध करने में सफल रहा है। पूरे देश में लॉकडाउन के कारण आर्डरों को कार्यान्वित करने में देरी हो रही है। लेकिन प्रतिबद्धताएं पूरी होने की प्रक्रिया में हैं। कल चीनी के पांच जहाज कांडला बंदरगाह से भेजे जाने की कगार पर थे। उन्होंने कहा कि आगामी त्यौहार ईद के दौरान चीनी की मांग बढ़ने की संभावना रहेगी।

उन्होंने कहा कि इस समय कुछ चीनी मिलों के आवंटित निर्यात कोटा समाप्त हो चुके हैं। खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग कोटे को कुछ मिलों से वापस लेने और उसे फिर पुनःआबंटित उन मिलों को करने जिन्होंने अपना MAEQ का अधिकतम समापत कर लिया है और अपने वास्तविक MAEQ से ज्यादा निर्यात करना चाहते है, के लिए जरुरी कदम उठा रही है। फिलहाल यह विचाराधीन है और शीघ्र ही इसकी घोषणा की जाएगी। चीनी के निर्यात के लिए हमारे पर अभी तीन से चार महीने का समय है। मुझे पूरी उम्मीद है कि आने वाले दिनों में चीनी के निर्यात में वृद्धि होगी और हम 5 मिलियन टन से ज्यादा निर्यात कर सकेंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here