घरेलू चीनी कीमतों में गिरावट की आशंका से भारतीय चीनी उद्योग चिंता में

149

24 सितंबर 2021 को घोषित एक अधिसूचना में, खाद्य मंत्रालय ने सितंबर 2021 के महीने के लिए 558 चीनी मिलों को घरेलू बिक्री के लिए 2.5 लाख टन का अतिरिक्त कोटा आवंटित किया है।

DFPD के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, “सितंबर 2021 में चीनी की मांग को ध्यान में रखते हुए और घरेलू खपत के लिए चीनी की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए चीनी का मिल-वाइज सितंबर, 2021 के महीने के लिए 2.5 लाख टन का अतिरिक्त कोटा जारी किया गया है।”

महीने के अंत में अतिरिक्त कोटा आने से घरेलू बाजार असमंजस में है। चीनी की कीमतों में 7 महीने के बाद वृद्धि देखि गई है और अब चीनी की कीमतों में गिरावट की आशंका है।

चीनीमंडी न्यूज के साथ बातचीत में, श्री प्रकाश नाइकनवरे, प्रबंध निदेशक, नेशनल फेडरेशन ऑफ कोऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज (एनएफसीएसएफ) ने इसपर अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा, “5 दिनों में 2.5 लाख टन का अतिरिक्त कोटा बेचने से निश्चित रूप से घरेलू चीनी की कीमतों पर दबाव आने वाला है। पिछले 5 वर्षों के लिए सितंबर के महीने में वास्तविक औसत डिस्पैच 22 लाख टन रहा है, जबकि सितंबर 2021 के लिए 24.5 लाख टन का वर्तमान संचित कोटा है। घरेलू चीनी की कीमतों में गिरावट की आशंका है।”

अगस्त 2021 से घरेलू चीनी की कीमतें ऊपर की ओर बढ़ रही थीं। बाजार की धारणा काफी सकारात्मक थी और अच्छी मांग देखी गई और मिलर्स सामान्य से पहले बिक्री बंद कर रहे थे। चीनी की कीमतें लगभग 300 से 400 रूपये प्रति क्विंटल अधिक थीं। भारत सरकार द्वारा चीनी का न्यूनतम बिक्री मूल्य (MSP) 3100 रूपये प्रति क्विंटल लागू करने के बाद पहली बार कीमतें औसतन 3500 से 3600 रूपये प्रति क्विंटल के आसपास रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here