ब्राजील के राष्ट्रपति के भारत दौरे पर गन्ना किसानों का विरोध

272

नई दिल्ली : चीनी मंडी

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह के लिए मुख्य अतिथि के रूप में ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सनारो को आमंत्रित किया गया है। 18 से 25 जनवरी के बीच किसानों, विशेषकर गन्ना किसानों और देश भर के किसान संगठनों ने एक सप्ताह के विरोध अभियान की शुरुआत की है। AISFF, AIKS, स्वाभिमानी शेतकरी संगठन और समान विचारधारा वाले संगठन बोल्सनारो की यात्रा के खिलाफ संयुक्त रूप से विरोध कर रहे हैं।

किसान संघठनों ने आरोप लगाया की, विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के समक्ष भारतीय चीनी सब्सिडी पर बोल्सनारो का रुख मजदूरों, किसानों, युवाओं, छात्रों, महिलाओं के प्रति दमनकारी है और जिसने किसानों और संगठनों को परेशान किया। गणतंत्र दिवस के लिए बोल्सनारो को आमंत्रित करने के लिए भाजपा के नेतृत्व वाली मोदी सरकार के फैसले की निंदा करते हुए, ऑल इंडिया गन्ना किसान महासंघ (AISFF), जो कि ऑल इंडिया किसान सभा (AIKS/ एआईकेएस) से समकक्ष है, और सरकार के नीतियों के खिलाफ अभियान का नेतृत्व कर रहा है।

‘एआईकेएस’ के अखिल भारतीय अध्यक्ष अशोक धवले ने कहा की, विरोध अभियान का प्रमुख मुद्दा यह है कि, गन्ने का मूल्य उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी ) के अनुसार होना चाहिए और उनकी (बोल्सनारो) दमनकारी विचारधारा को भी उजागर किया जाएगा। दुनिया में गन्ने और चीनी के निर्यातक के सबसे बड़े उत्पादक, ब्राजील ने भारत सरकार के चीनी उद्योग के समर्थन को चुनौती दी, जिसमें आरोप लगाया गया कि, यह ‘डब्ल्यूटीओ’ के नियमों का उल्लंघन करता है और घरेलू समर्थन सीमा से परे है। ब्राजील के साथ, ऑस्ट्रेलिया और ग्वाटेमाला ने भी भारत के खिलाफ शिकायतें दर्ज कराई हैं। इन देशों का आरोप है कि, किसानों को भारत सरकार से मिलने वाली सब्सिडी वैश्विक चीनी बाजार को बिगाड़ती है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here