व्यापारी ईरान को पिछले सीज़न का चीनी कर रहे है निर्यात: रिपोर्ट

149

नई दिल्‍ली : चीनी मंडी

अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण इराण खाद्य आपूर्ति को सुरक्षित रखने का प्रयास कर रहा है, और खबरों के मुताबिक, भारतीय व्यापारी सरकार के सब्सिडी के बाद पिछले सीजन चीनी आक्रामक तरिके से इराण को निर्यात कर रहे हैं। जानकारों के अनुसार, दुनिया के सबसे बड़े चीनी उत्पादक भारत द्वारा हो रही चीनी निर्यात वैश्विक कीमतों पर दबाव डाल सकती है, लेकिन घरेलू कीमतों को कम करने वाले अधिशेष चीनी की समस्या को कम करने में मददगार भी साबीत हो सकती है।

व्यापार सूत्रों ने कहा कि, व्यापारियो ने अक्टूबर से दिसंबर में लगभग 21,600 रुपये प्रति टन के हिसाब से ईरान को 350,000 टन चीनी निर्यात करने का अनुबंध किया है। श्रीलंका, अफगानिस्तान और अफ्रीकी देशों जैसे गंतव्यों के लिए 2019 की आखिरी तिमाही में 1,50,000 चीनी निर्यात के लगभग 315 डॉलर प्रति टन का अनुबंध किया है।

देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादक उत्तर प्रदेश की चीनी मिलें पारंपरिक रूप से कम मात्रा में निर्यात करती हैं क्योंकि उन्हें पश्चिमी तट पर बंदरगाहों तक लाने के लिए अधिक खर्च करने की आवश्यकता होती है। लेकिन, इस साल वे सरलीकृत निर्यात प्रक्रियाओं के कारण सक्रिय रूप से निर्यात कर रहे हैं। निर्यात के साथ, मिलें नए सीजन के उत्पादन के लिए जगह बना रही हैं और किसानों से गन्ना खरीदने के लिए पैसे जुटा रही हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here