भारतीयों का चीनी से परहेज; प्रति व्यक्ति चीनी खपत में गिरावट…

693
नई दिल्ली : चीनी मंडी 
भारत जो कि मधुमेह की राजधानी बन रही है, टाइप -2 मधुमेह के लगभग 5 करोड़ रोगी है और वो स्वास्थ्य के प्रति अधिक  जागरूक हो रहे है । मधुमेही रोगी धीरे-धीरे चीनी से परहेज कर रहे है जिसके कारण चीनी की खपत को कम होती दिखाई दे रही हैं । इसका सीधा असर देश के चीनी उद्योग पर हो रहा है ।
प्रति वर्ष प्रति व्यक्ति चीनी खपत में 2 किलो की कमी…
नेशनल फेडरेशन ऑफ शुगर फैक्ट्रीज लिमिटेड (एनएफएसएफएल) के आंकड़ों से पता चलता है कि,  प्रति वर्ष प्रति व्यक्ति चीनी खपत में 2 किलो की कमी आई है। 2014-15 में, भारत की चीनी खपत प्रति व्यक्ति 20.5 किग्रा थी, लेकिन यह वित्तीय वर्ष 2017-18 में प्रति व्यक्ति 18.5 किग्रा हो गई है। वित्तीय वर्ष 2017-18 में भारत का कुल चीनी उत्पादन 32  लाख मेट्रिक टन था और खपत लगभग 25 लाख मेट्रिक टन थी।
भारतीय अपनी खाने की आदतों को बदल रहे हैं…
चीनी क्षेत्र के विश्लेषकों का मानना है कि, 2017-18 में चीनी के उत्पादन में वृद्धि के अलावा, एक प्रमुख कारण यह है कि पर्याप्त स्टॉक क्यों बेचा गया है और भारतीय अपनी खाने की आदतों को बदल रहे हैं। हालांकि, भारत में गन्ने को राजनीतिक रूप से संवेदनशील फसल माना जाता  है। भारत में उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र यह उच्चतम लोकसभा सीटों वाले दो राज्य गन्ना और चीनी का सबसे बड़ेउत्पादक हैं। इन दोनों राज्यों में कुल 543 में लोकसभा के 128 सांसदों का चयन किया। जिसमे गन्ना और उसका बकाया प्रमुख चुनावी मुद्दा होता है और यही कारण है कि चीनी उद्योग में खाद की समस्या से निपटने के लिए, केंद्र सरकार ने पिछले महीने उद्योग के लिए 5500 करोड़ रुपये पैकेज की घोषणा की थी।
महाराष्ट्र में गन्ना राजनीतिक रूप से संवेदनशील फसल…
महाराष्ट्र में लगभग 30 लाख किसान गन्ने की खेती में लगे हुए हैं और पिछली कांग्रेस-एनसीपी सरकार में कुल 30 कैबिनेट मंत्रियों में से 11 मंत्री  अपने संबंधित जिलों में एक या एक से अधिक  सहकारी या निजी चीनी मिलों को नियंत्रित करते थे । यद्यपि चीनी लॉबी वर्तमान में बीजेपी-सेना सरकार में 22 कैबिनेट मंत्रियों में से शक्तिशाली नहीं है, 22 कैबिनेट मंत्रियों में से पांच मंत्री सहकारी समितियों या अपने चीनी मिलों को नियंत्रित करते हैं।
जनसंख्या में वृद्धि के अनुपात में चीनी खपत नहीं बढ़ रही : खताल
महाराष्ट्र राज्य सहकारी चीनी कारखानों फेडरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक संजय खताल ने कहा, चीनी के पूरी तरह से उपभोग में कोई गिरावट नहीं है, लेकिन जनसंख्या में वृद्धि के अनुपात में चीनी खपत नहीं बढ़ रही है। हालांकि, केवल भारत में ही प्रवृत्ति असाधारण नहीं है, यह दुनिया भर में हो रहा है। लोग स्वास्थ्य के प्रति अधिक जागरूक हो गए हैं और वही वजह से चीनी खपत  नियंत्रित  हो रही  हैं।  हालांकि, सरकार सीधे गन्ने से इथेनॉल के उत्पादन को प्रोत्साहित करती है, जिससे आयातित ईंधन पर भारत की निर्भरता कम हो जाएगी और भारतीय किसानों को अधिक लाभकारी कीमतें भी मिलेंगी।
SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here