भारत द्वारा एथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देने से वैश्विक चीनी आपूर्ति में गिरावट संभव….

321

न्यूयॉर्क: स्टोनएक्स (StoneX) ने कहा कि, भारत में एथेनॉल उत्पादन के लिए गन्ने के अधिक उपयोग और ब्राजील में गन्ना उत्पादन में गिरावट के कारण अक्टूबर में शुरू हुए 2021-22 सीजन में दुनिया की चीनी आपूर्ति संतुलन बिगड़ने की संभावना है। स्टोनएक्स ने कहा कि, सीजन में लगातार तीसरे वर्ष चीनी उत्पादन से अधिक मांग देखने को मिल सकती है। सभी कारकों को देखते हुए इस सीजन में वैश्विक बाजार में 1.8 मिलियन टन चीनी आपूर्ति कमी का अनुमान है, जो अक्टूबर में अनुमान से लगभग 1 मिलियन टन अधिक है।

वैश्विक उत्पादन 186.6 मिलियन टन, जबकि मांग 188.4 मिलियन टन रहने का अनुमान लगाया गया था। स्टोनएक्स ने कहा कि, हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चीनी की मांग में सुधार हुआ है, और इसमें एशियाई देशों और रिफाइनिंग हब से अधिक खरीदारी देखी गई। स्टोनएक्स ने कहा कि, भारत रिकॉर्ड मात्रा में गन्ने का उत्पादन करता दिख रहा है, लेकिन देश का एथेनॉल सम्मिश्रण कार्यक्रम के लिए 30 लाख टन चीनी के बराबर गन्ने का इस्तेमाल किया जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप चीनी का उत्पादन लगभग 31 मिलियन टन हो सकता है।

दूसरी ओर ब्राजील के मध्य-दक्षिण क्षेत्र में उत्पादन 31.3 मिलियन टन अनुमानित है, जो एक साल पहले की तुलना में 12% कम है। स्टोनएक्स ने कहा कि, ब्राजील का नया चीनी सीजन, जो अप्रैल में शुरू होगा, गन्ने की कुल मात्रा में 6% सुधार के साथ 565.3 मिलियन टन होगा। यूरोपीय संघ और यूनाइटेड किंगडम क्षेत्र में चीनी का उत्पादन 2021- 22 (अक्टूबर-सितंबर) में लगभग 12% बढ़कर 17.2 मिलियन टन होने का अनुमान है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here