मई में भारत का कच्चे तेल का उत्पादन 4.6 प्रतिशत बढ़ा

35

नई दिल्ली : मई में भारत में कच्चे तेल का उत्पादन सालाना आधार पर 4.6 प्रतिशत बढ़कर 2550.05 हजार मीट्रिक टन (टीएमटी) हो गया, जिससे तेल और प्राकृतिक गैस के उत्पादन में तेज उछाल से मदद मिली। मई 2022 के दौरान कच्चे तेल का उत्पादन महीने के लक्ष्य से 2.44 प्रतिशत अधिक और मई 2021 के उत्पादन से 4.60 प्रतिशत अधिक था। पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल-मई, 2022 के दौरान संचयी कच्चे तेल का उत्पादन 5019.72 हजार मीट्रिक टन रहा, जो कि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान की अवधि और उत्पादन के लक्ष्य से क्रमशः 2.86 प्रतिशत और 1.79 प्रतिशत अधिक है।

मई 2022 के दौरान नामांकन ब्लॉक में ओएनजीसी द्वारा कच्चे तेल का उत्पादन 1693.69 हजार मीट्रिक टन था, जो महीने के लक्ष्य से 5.09 प्रतिशत अधिक और मई 2021 के उत्पादन की तुलना में 9.01 प्रतिशत अधिक है। अप्रैल-मई, 2022 के दौरान ओएनजीसी द्वारा कच्चे तेल का संचयी उत्पादन 3344.34 हजार मीट्रिक टन था, जो इस अवधि के लक्ष्य और पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान उत्पादन से क्रमशः 5.01 प्रतिशत और 4.83 प्रतिशत कम है। ऑयल इंडिया लिमिटेड (ओआईएल) द्वारा मई 2022 के दौरान नामांकन ब्लॉक में कच्चे तेल का उत्पादन 265.23 हजार मीट्रिक टन था, जो महीने के लक्ष्य से 4.01 प्रतिशत कम है, लेकिन मई 2021 के उत्पादन की तुलना में 4.80 प्रतिशत अधिक है।

अप्रैल-मई 2022 के दौरान ओआईएल द्वारा कच्चे तेल का संचयी उत्पादन 516.68 हजार मीट्रिक टन था, जो इस अवधि के लक्ष्य से 2.47 प्रतिशत कम है, लेकिन पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान उत्पादन की तुलना में 4.21 प्रतिशत अधिक है। मई 2022 के दौरान पीएससी/आरएससी शासन में निजी और संयुक्त उद्यम कंपनियों द्वारा कच्चे तेल का उत्पादन 591.14 टीएमटी था, जो रिपोर्टिंग महीने के लक्ष्य से 1.69 प्रतिशत कम और मई 2021 के मासिक उत्पादन से 6.36 प्रतिशत कम है।अप्रैल-मई 2022 के दौरान निजी/संयुक्त उद्यम कंपनियों द्वारा कच्चे तेल का संचयी उत्पादन 1158.70 टीएमटी था, जो इस अवधि के लक्ष्य और पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान हुए उत्पादन से क्रमशः 0.58 प्रतिशत और 6.95 प्रतिशत कम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here