चीनी उद्योग को MSP में बढ़ोतरी का इंतजार

85

शुगर सीजन 2019-20 और 2020-21 में अधिशेष चीनी उत्पादन के मद्देनजर घरेलू चीनी की कीमतों में गिरावट आई है। उद्योग गन्ना बकाया भुगतान के साथ-साथ एक्स-मिल की कीमतों में गिरावट की चुनौतियों का सामना कर रहा है। नवीनतम रिपोर्टों के अनुसार, चल रहे सीजन 2020-21 के लिए गन्ना बकाया लगभग 14000 करोड़ रूपये है और 2018-19 और 2019-20 में पिछले सीज़न के लिए 600-650 करोड़ रूपये है। चीनी उद्योग चीनी के MSP में बढ़ोतरी की मांग कर रहा है जो ब्याज और रखरखाव लागत सहित उत्पादन लागत को कवर करने में मदद करेगा।

श्री जितेंद्र धारू – प्रबंध निदेशक, श्री दत्त इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ चीनीमंडी समाचार के साथ बातचीत में। लिमिटेड, महाराष्ट्र में दो प्रमुख चीनी मिलों को चला रही है, ने चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य (MSP) में वृद्धि की घोषणा की सख्त आवश्यकता पर अपने विचार साझा किए।

चीनीमंडी न्यूज के साथ बातचीत में, श्री दत्त इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, श्री जीतेंद्र धारू, जो महाराष्ट्र में दो प्रमुख चीनी मिलों को चला रहे हैं, ने चीनी के MSP में वृद्धि की घोषणा की सख्त जरूरत पर अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा, “चीनी के एमएसपी में बढ़ोतरी एक साल से अधिक समय से कई शीर्ष स्तरीय बैठकों के साथ चर्चा का विषय रही है। चीनी के एमएसपी को बढ़ाए 2 साल हो चुके हैं, इसके तुरंत बाद गन्ने का एफआरपी भी बढ़ा दिया गया है। इस निर्णय से न केवल चीनी मिलों की नकदी की तरलता में सुधार होगा, बल्कि मिलों में इन्वेंट्री को भी बचाया जा सकेगा और देश भर में मांग-आपूर्ति की गतिशीलता को संतुलित करने में मदद मिलेगी। गन्ने की कीमतों में तेजी से उछाल चिंताजनक है और पहले से ही राज्य भर के मिल मालिकों को चिंतित कर रहा है।”

व्यापारियों को भी कम कीमत की चिंता सता रही है। उसी पर विचार साझा करते हुए, श्री अनिल कपूर – प्रोपराइटर – सत देव ओम प्रकाश, जो की प्रमुख शुगर ट्रेडिंग फर्म लीग में से एक है, ने कहा, “मौजूदा चीनी की कीमतें इसी अवधि के दौरान एक साल पहले की तुलना में लगभग 80 रूपये से 100 रूपये/ क्विंटल कम हैं। यह मूल्य श्रृंखला में एक अच्छा संकेत नहीं दिखाता है। ऊपर की ओर संशोधन से मिल मालिकों के साथ-साथ व्यापारियों को चीनी के व्यापार को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी जिससे बेहतर प्राप्तियां हो सकेंगी।”

कपूर ने आगे कहा, “कोविड -19 का चीनी उद्योग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है, क्योंकि लंबे समय तक लॉकडाउन के कारण खपत में गिरावट आई है। लॉकडाउन ने न केवल मांग को प्रभावित किया बल्कि प्रमुख बाजारों में परिवहन में भी कठिनाई पैदा की। इस बढ़ोतरी से बाजार की स्थितियों में व्यापक सुधार होगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here