हरियाणा में गन्ना फसल पर कीटों का हमला

216

चंडीगढ़: हरियाणा में किसान गन्ना फसल पर कीटों के हमले से काफी परेशान है, जिससे फसल काफी क्षतिग्रस्त हुई है। प्रमुख गन्ना उत्पादक जिलों – यमुनानगर, करनाल और कुरुक्षेत्र में किसान बुरी तरह प्रभावित हैं और अपनी फसल की रक्षा के लिए कीटनाशकों पर बहुत अधिक खर्च कर रहे हैं। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार, गन्ने में दो प्रमुख रोग, टॉप-बोरर और पोक्का बोइंग, की सूचना मिली है और Co 0238, (जो कि राज्य में कुल गन्ने के रकबे का लगभग 40% है) बुरी तरह प्रभावित है। इससे 20-30% उपज का नुकसान हो सकता है। किसानों ने कहा कि, फसल की Co 118 और CoH 160 किस्मों पर कोई बड़ा प्रभाव नहीं पड़ा है।

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक, कीट पत्तियों को नुकसान पहुंचा कर फसल की वृद्धि को प्रभावित करता है। पिछले साल इसने उपज को लगभग 100-200 क्विंटल प्रति एकड़ प्रभावित किया था। इससे इस साल भी भारी नुकसान हो सकता है। विशेषज्ञों ने कहा कि, गन्ने की फसल के लिए टॉप-बोरर हानिकारक है। यह फरवरी से अक्टूबर तक सक्रिय रहता है और गन्ने की फसल को नुकसान पहुंचाता है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गन्ना विशेषज्ञ और हरियाणा किसान आयोग के सदस्य सचिव डॉ मेहर चंद ने कहा, गन्ने की फसल पर टॉप-बोरर का गंभीर हमला हुआ है। किसानों के लिए फसल की रक्षा करना एक कठिन चरण है क्योंकि फसल पहले ही छह फीट से अधिक की वृद्धि प्राप्त कर चुकी है। हम कीटों के हमले को नियंत्रित करने के लिए कार्बोफ्यूरान की सलाह देते हैं लेकिन इस स्तर पर कीटनाशक का उपयोग करना मुश्किल है। उन्होंने किसानों को कीटों को नियंत्रित करने के लिए मई और जून में कीटनाशकों का उपयोग करने की सलाह दी क्योंकि बाद के चरणों में कीट को नियंत्रित करना मुश्किल होता है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here