किसानों के लिए ‘मूल्य नीति’ के बजाय ‘आय नीति’ फायदेमंद : अशोक गुलाटी

938

नई दिल्ली : चीनी मंडी

जब कीमतों में गिरावट आती है, तब आप प्रभावित किसानों की मदद करना चाहते हैं, तो मूल्य नीति में बदलाव न करें; इसके बजाय उन्हें प्रत्यक्ष आय समर्थन दें। लेकिन सरकार के नीति निर्माता किसानों का समर्थन करने के लिए गलत तरीके का इस्तेमाल कर रहे हैं और उसकी जगह आय नीति का उपयोग करना होगा।

भारत में केवल तेलंगाना ने किसानों के लिए आय सहायता नीति लागू की है। इस खरीफ सीजन के बाद से, तेलंगाना में राज्य सरकार 72 लाख किसानों को आय समर्थन के रूप में प्रति एकड़ 4,000 दे रही है। इसी तरह का समर्थन रबी सीजन के लिए भी उपलब्ध होगा, जो अगले महीने शुरू होता है, जिससे किसानों को कुल वार्षिक समर्थन ₹ 8,000 प्रति एकड़ तक मिल जाता है।

बुधवार को गुरुग्राम में चीनी उद्योग विशेषज्ञों की एक सभा को संबोधित करते हुए भारतीय आर्थिक अनुसंधान परिषद (आईसीआरईईआर) में इंफोसिस चेयर के प्रोफेसर अशोक गुलाटी ने कहा की, किसान की मदत के हेतु चीजों की कीमतों को प्रभावित करना उचित रास्ता नही हैं।” गुलाटी ने गन्ने का उदाहरण दिया, गन्ना किसानों को दी गई उच्च निष्पक्ष और लाभकारी मूल्य (एफआरपी) का उपयोग करते हुए कहा कि सरकारें कुछ हद तक मदद कर सकती हैं जब कीमतें तेजी से गिर रही हैं।

उन्होंने कहा, आज चीजों की मांग और आपूर्ति पर कीमते निर्भर नहीं है बल्कि सरकार द्वारा अपनाई गई मूल्य निर्धारण नीति कीमतों पर असर डाल रही है। यह टिकाऊ नहीं है। “कई बार, इन संकटों को परिवर्तन के अवसर में बदल दिया जा सकता है।” उदाहरण के लिए, गुलाटी ने कहा, महाराष्ट्र में, कुल फसल वाले क्षेत्र का लगभग 4 प्रतिशत गन्ना क्षेत्र है और सिंचाई के लिए इस्तेमाल होने वाले 60 प्रतिशत पानी का उपभोग करता है। गन्ना और चीनी की कीमतों में गिरावट से किसानों को गन्ना जैसी फसलों से दूर जाने के लिए मजबूर किया जाएगा, और एफआरपी जैसे मूल्य समर्थन तंत्र भी नाकाम हो जायेंगे ।

चीनी उद्योग का अनुमान है कि अगले वर्ष मार्च-अप्रैल तक इसके साथ कुल अधिशेष लगभग 19 मिलियन टन होगा। यह कहकर कि उद्योग “डायनामाइट पर बैठा है”, आईसीआरईईआर अर्थशास्त्री गुलाटी ने कहा कि, अगर स्थिति ऐसी ही बनी रहती है तो कई मिलें नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में खत्म हो जाएंगी।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here