चीनी मिलों को गन्ना परिवहन को लेकर निर्देश

209

कोल्हापुर: चीनी मंडी

कोल्हापुर क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) ने गन्ना किसानों के साथ-साथ जिले की सभी चीनी मिलों को इस पेराई सत्र में अपने वाहनों में गन्ने की ‘ओवरलोडिंग’ से बचने के लिए कहा है। जिले के ग्रामीण और कुछ शहरी हिस्सों के साथ-साथ आसपास के क्षेत्र में, ट्रैक्टरों से जुड़े ट्रेलरों का उपयोग अक्सर गन्ने के परिवहन के लिए किया जाता है। कई बार ट्रैक्टर गन्ने से ‘ओवरलोड’ हो जाते हैं, जिससे सड़क दुर्घटनाओं का खतरा बढ़ जाता है।आरटीओ का निर्देश उस हालिया घटना के मद्देनजर आया है जिसमें शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर राष्ट्रीय राजमार्ग -4 पर अंबप फाटा पर गुरुवार को गन्ने से लदा एक ट्रक पलट गया। घटना में कोई हताहत नहीं हुआ। क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी स्टीवन अल्वारिस ने कहा कि, आरटीओ गन्ना परिवहन पर कड़ी निगरानी रख रहा है और ओवरलोड गन्ना ट्रकों या ट्रैक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा और उनके खिलाफ भी जो बिना रिफ्लेक्टर के संचालित हो रहे हैं।

अल्वारिस ने कहा, कोल्हापुर जिला – अपने चीनी उद्योग के लिए जाना जाता है – शहर के बाहरी इलाके के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में कई चीनी मिलें हैं। इसलिए, गन्ना ढोने वाले ट्रक या ट्रैक्टर अक्सर अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए रात में राजमार्ग का रास्ता अपनाते हैं। ऐसे मामलों में, अगर ये गन्ना ले जाने वाले ट्रक या ट्रैक्टर ओवरलोड होते हैं और रिफ्लेक्टर के बिना काम करते हैं, तो इससे दुर्घटनाओं का खतरा बढ़ जाता है। एक ट्रॉली की क्षमता उसके आकार पर निर्भर करती है। अधिकांश ट्रॉली अपनी निर्धारित क्षमता से अधिक गन्ना ले जाती हैं। इसके अलावा, वे रिफ्लेक्टर से भी लैस नहीं हैं। इससे रात के दौरान हादसे हो सकते हैं। रिफ्लेक्टरों के अभाव के कारण हर साल कई दुर्घटनाएँ होती हैं। इसलिए, हमने इस साल चीनी मिलों के साथ मिलकर एक अभियान शुरू किया है।

चीनी मिलों को गन्ना परिवहन को लेकर निर्देश यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here