चीनी अधिशेष से निपटने के लिए ‘इन्वेंट्री लिक्विडेशन’ योजना जरूरी : प्रकाश नाइकनवरे

843

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

कोल्हापुर: चीनी मंडी

भारत में चीनी के उत्पादन के बढ़े हुए स्तर ने चीनी की कीमतों के गिरावट में योगदान दिया है, जिसके कारण मिलों को अपनी उत्पादन लागत से नीचे चीनी बेचनी पड़ रही है, और मिलों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा हैं, जिसके परिणामस्वरूप किसानों का गन्ना बकाया दिनोंदिन बढ़ रहा है। बकाया भुगतान को लेकर किसानों में काफी आक्रोश नजर आ रहा है।

अधिशेष चीनी और कीमतों में गिरावट के चलते केंद्र सरकार ने चीनी उद्योग को संकट से बहार निकलने के लिए हर मुमकिन कोशिश की है। जिसमें चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य की कीमत 2900 रूपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 3100 रूपये करना शामिल था, ताकि चीनी मिलों को लंबित बकाया राशि को कम करने में मदद मिल सके। लेकिन इसके बावजूद मिलें भुगतान करने में विफल रहीं, क्योंकि चीनी बिक्री भी बिल्कुल ठप्प हो चुकी है।

हालांकि, बकाया भुगतान को लेकर चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ द्वारा की गई कार्रवाई के कारण राज्य में गन्ने का बकाया कम होने की संभावना बनी हुई है। राज्य में पिछले 15 दिनों में, 1000 करोड़ रुपये के बकाया राशि का भुगतान हुआ है। आयुक्त यह भी मान रहे है कि, एक बार केंद्र सरकार द्वारा नरम ऋण (साॅफ्ट लोन ) मंजूर होने के बाद, लंबित बकाया काफी हद तक घट जाएगा और उसके बाद, पेराई सत्र के अंत तक, कुल बकाया राशि का केवल 10 प्रतिशत बकाया रहेगा। वर्तमान में, राज्य की 5 चीनी मिलें मई के पहले सप्ताह तक पेराई जारी रख सकती हैं।

अधिशेष उत्पादन से निपटने के लिए भारत के पास केवल अत्यधिक स्टॉक के निर्यात का विकल्प है। राजस्व बढ़ाने के लिए, केंद्र और राज्य सरकार के साथ-साथ विभिन्न चीनी निकायों ने गन्ने के रस और बी भारी गुड़ से इथेनॉल के उत्पादन को बढ़ाने के उपाय किए हैं। फिर भी, सभी मुद्दों पर एक तरह से विचार-विमर्श करने के बाद अत्यधिक चीनी उत्पादन की समस्या एक अनसुलझा रहस्य बनी हुई है. वर्षा की कमी, सफ़ेद ग्रब और लाल सड़न संक्रमणों के कारण उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में चीनी उत्पादन घटने की भविष्यवाणियों के बावजूद चीनी उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच चूका है। महाराष्ट्र 24 अप्रैल 2019 तक 107.26 लाख मीट्रिक टन चीनी के उत्पादन के साथ खड़ा है, जबकि उत्तर प्रदेश ने 18 अप्रैल 2019 तक 107.07 लाख मीट्रिक टन चीनी का उत्पादन किया है।

24 अप्रैल 2019 को, जब देश भर में 161 मिलें चल रही हैं, देशभर में कुल उत्पादन 318.35 लाख मीट्रिक टन तक पहुंच गया है। सीज़न के अंत तक, कुल चीनी उत्पादन 326 लाख मीट्रिक टन का एक नया रिकॉर्ड बनाने के लिए तैयार है, और यह अत्यधिक चीनी स्टॉक में जोड़ देगा, जो पहले से ही चीनी उद्योग के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। देश में अतिरिक्त चीनी उत्पादन कई लोगों के लिए आश्चर्य की बात है, जबकि कुछ के लिए यह अपेक्षित था।

अतिरिक्त चीनी उत्पादन पर टिप्पणी करते हुए नेशनल फेडरेशन ऑफ को-ऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज लिमिटेड के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने कहा, इस सीझन का महाराष्ट्र का ऑल-टाइम उच्च रिकॉर्ड के साथ उत्पादन कोई आश्चर्य की बात नही है। हम काफी लंबे समय से इस पर निरंतर निगरानी कर रहे थे और बार बार रिकॉर्ड उत्पादन का जिक्र कर रहे थे। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया की, चुकी आयुक्त के अनुसार गन्ना बकाया नियंत्रण में आ रहा है , इसलिए अब चीनी का रिकॉर्ड उत्पादन और अधिशेष चीनी की समस्या से निपटने के लिए इन्वेंट्री के लिक्विडेशन की योजना तैयार करने की जरूरत है।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here