ISMA ने PMO को पत्र लिखकर की चीनी की MSP बढ़ाने की मांग

196

गन्ने के लिए उचित और लाभकारी मूल्य (FRP) की वृद्धि के बावजूद चीनी का न्यूनतम बिक्री मूल्य 30 महीने से अधिक समय से स्थिर बना हुआ है। हाल ही में सरकार ने एक बार फिर FRP में 5 रूपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की है। उद्योग जगत की शीर्ष संस्था इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) का मानना है कि सरकार के लिए MSP को बढ़ाकर 34.50 से 35 रूपये प्रति किलो करने का फैसला करने का यह सही समय है, जो वर्तमान में 31 रूपये प्रति किलोग्राम है।

ISMA द्वारा PMO को लिखे एक पत्र में, संगठन ने विभिन्न पहलुओं को प्रकाश में लाया जो मुख्य रूप से इनपुट, कच्चे माल, वेतन और मजदूरी, रखरखाव लागत आदि की लागत में 10-15 प्रतिशत की वृद्धि के साथ चीनी के MSP में तत्काल वृद्धि को सही ठहराते हैं। जिससे चीनी मिलों के लिए गन्ने का भुगतान करना मुश्किल हो गया है।

पत्र में यह भी कहा गया है कि चीनी मिल/कंपनी के कुल राजस्व का लगभग 80 प्रतिशत (या कुछ मामलों में इससे भी अधिक), केवल चीनी से आता है, और बिजली, इथेनॉल आदि जैसे उप-उत्पाद कुल राजस्व का 15-20 प्रतिशत का योगदान करते हैं। ISMA 3-4 रुपये प्रति किलो की बढ़ोतरी की मांग कर रहा है, जिससे चीनी मिलों को कार्यशील पूंजी ऋण देने के लिए बैंकों द्वारा विचार की जाने वाली चीनी के मूल्यांकन में वृद्धि होगी। बदले में, मिल मालिकों को 10-12,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त कार्यशील पूंजी / नकदी प्रवाह आएगा और अगले सीजन में किसानों को समय पर भुगतान करने में आसानी होगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here