कलबुर्गी जिले में लागू होगा इजराइल खेती का मॉडल

106

कलबुर्गी: कर्नाटक के खनन और भूविज्ञान मंत्री मुरुगेश निरानी ने कहा कि, कलबुर्गी जिले के विभिन्न आर्थिक क्षेत्रों में पिछड़े परिदृश्य को बदलने के लिए 30 साल के अपने महत्वाकांक्षी ‘कलबुर्गी विजन 2050’ के हिस्से के रूप में, खेती के इज़राइल मॉडल को जिले के सभी तालुकों में लागू किया जाएगा। मंत्री निरानी ने मीडियाकर्मियों से कहा की, इज़राइल मॉडल सीमित संसाधनों के साथ उच्च उत्पादकता के लिए जाना जाता है। हम पायलट आधार पर कलबुर्गी जिले के प्रत्येक तालुक में 100 एकड़ में ऐसी खेती को लागू करने की योजना बना रहे हैं। हम पायलट प्रोजेक्ट के परिणामों का आकलन करने के बाद अन्य क्षेत्रों में विस्तार कर सकते हैं।

कलबुर्गी में किसान पारंपरिक फसलों जैसे लाल चना, हरा चना, काला चना और ज्वार उगाने के लिए खेती के पारंपरिक मॉडल का पालन कर रहे थे। लेकिन, उन्होंने कहा, ये नकदी फसलों की तुलना में कम लाभदायक थे। पिछले 20 वर्षों में, पड़ोसी विजयपुरा जिले के किसान अलमट्टी जलाशय के माध्यम से कृष्णा नदी के पानी का उपयोग करके नकदी फसलों, विशेष रूप से गन्ने में स्थानांतरित हो गए है। निरानी ने कहा, मैं कलबुर्गी जिले के चुनिंदा किसानों को विजयपुरा ले जाने की योजना बना रहा हूं ताकि वे प्रत्यक्ष ज्ञान प्राप्त कर सकें, सफल किसानों के अनुभव से सीख सकें और उन्हें कलबुर्गी में लागू कर सकें।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here