गन्ने की फसल पूरी तरह से खराब हो गई है इसलिए ताजा गन्ना लगाना बेहतर होगा: शरद पवार

608

कोल्हापुर: पुणे, सांगली, सतारा, कोल्हापुर और सोलापुर जिलों में भारी बारिश के बाद खेतों को बड़ा नुक्सान हुआ है। अब, किसान बाढ़ के बाद सामान्य स्थिति में लौटने की कोशिश कर रहे हैं।

बाढ़ ने क्षेत्र में कई हजार हेक्टेयर पर फसलों को नुकसान पहुंचाया है। अन्य फसलों की तरह, अत्यधिक जलभराव से गन्ने को भी नुकसान हुआ है। जिसके बाद, अब NCP ने सरकार से गन्ना किसानों को मुआवजा प्रदान करने का आग्रह किया है।

धनंजय मुंडे और सांसद सुप्रिया सुले के नेतृत्व में NCP के एक प्रतिनिधिमंडल ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस से मुलाकात की और गन्ने के लिए प्रति हेक्टेयर 1 लाख रुपये के मुआवजे की मांग की। इसके साथ ही पार्टी ने कृषि भूमि को खेती योग्य बनाने के लिए मुआवजे के रूप में 25,000 रुपये प्रति हेक्टेयर की भी मांग की।

14 अगस्त को, पार्टी अध्यक्ष शरद पवार ने भी बाढ़ और भारी बारिश से प्रभावित किसानों के लिए पूर्ण फसल ऋण माफी की मांग की। उन्होंने बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए एक स्थायी समाधान की भी मांग की। पवार ने कहा, “गन्ने की फसल पूरी तरह से खराब हो गई है, इसलिए ताजा गन्ना लगाना बेहतर होगा।”

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here