एनसीएस शुगर्स पर गिर सकती है प्रशासन की गाज

214

सीतानगरम: आंध्र प्रदेश में गन्ना किसानों के बकाया का मुद्दा भी गरमाया हुआ है। जिसके चलते अब प्रसाशन गंभीर दिखती हुई नज़र आ रही है।

विजयनगरम के जॉइंट कलेक्टर वेंकट रमना रेड्डी ने शुक्रवार को सीतानगरम में एनसीएस शुगर्स को निर्देश दिया कि यदि आवश्यक पड़े तो अपनी संपत्ति और मोलासेस बेचकर किसानों को तुरंत 20 करोड़ रुपये का भुगतान करें।

गन्ना बकाया के मुद्दे पर चर्चा के लिए, संयुक्त कलेक्टर ने एनसीएस शुगर्स के प्रबंध निदेशक नारायणम श्रीनिवास के साथ बैठक की। श्रीनिवास ने दावा किया की चीनी मिल एक बार में बकाए को चुकाने की स्थिति में नहीं क्यूंकि कारखाना वित्तीय संकट से पीड़ित है।

गन्ने का बकाया भुगतान नहीं होने के कारण किसानों ने अपना विरोध तेज कर दिया है। रमाना रेड्डी ने मिल को पैसे जुटाने के सभी विकल्पों का पता लगाने के लिए कहा और यह भी कहा कि यदि आवश्यक हो तो 7,750 मीट्रिक टन मोलासेस बेच सकते हैं, जिससे लगभग 4.5 करोड़ रुपये प्राप्त होंगे।

जॉइंट कलेक्टर ने चीनी मिल को बकाया राशि अदा करने के लिए तीन महीने की समय सीमा दी है, और भुगतान करने में विफल रहने पर मिल के खिलाफ करवाई का निर्देश दिया है। कलेक्टर ने कहा कि मिल को आगामी सीजन में चीनी पेराई बंद नहीं करनी चाहिए क्योंकि कई किसान पहले ही हजारों एकड़ में गन्ना लगा चुके हैं।

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here