कर्नाटक: सरकार ने किसानों के फसल नुकसान के मुआवजे में वृद्धि की

63

बेंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने मंगलवार को विधानसभा में कहा कि, सरकार ने उन किसानों को दिए गए मुआवजे में वृद्धि की है, जिनकी फसल हाल की बारिश और बाढ़ के दौरान क्षतिग्रस्त हो गई थी। राज्य सरकार ने यह निर्णय कोविड -19 महामारी के कारण हुई आर्थिक कठिनाई के बावजूद लिया है। बोम्मई ने कहा, हम किसान समर्थक सरकार हैं। उन्होंने आगे कहा, सिंचित भूमि के लिए प्रति हेक्टेयर फसल के नुकसान के मुआवजे के रूप में 13,500 रुपये की राशि तय की गई है। लेकिन राज्य सरकार ने अतिरिक्त 11,500 रुपये का भुगतान करने का फैसला किया है, कुल मिलाकर 25,000 रुपये प्रति हेक्टेयर का मुआवजा देने की पेशकश की है।

उन्होंने कहा, एनडीआरएफ के मानदंडों के अनुसार, शुष्क भूमि खेती में प्रति हेक्टेयर फसल के नुकसान के लिए निर्धारित राशि 6,800 रुपये है। यह मुआवजा कम है। हम इसे बढ़ाने का इरादा रखते हैं। इसलिए, राज्य सरकार ने अपने स्वयं के खजाने से अतिरिक्त 6800 रुपये का भुगतान करने का फैसला किया है, और शुष्क भूमि खेती के प्रति हेक्टेयर फसल के नुकसान के मुआवजे के रूप में 13,600 रुपये का भुगतान किया जा रहा है। मुख्यमंत्री बोम्मई ने दावा किया कि, इससे 12.69 लाख हेक्टेयर के कुल फसल क्षेत्र वाले किसानों को लाभ होगा। बागवानी फसलों के लिए 18,000 रुपये प्रति एकड़ का भुगतान किया जाता है। राज्य सरकार ने प्रति हेक्टेयर अतिरिक्त 10,000 रुपये का भुगतान करने का फैसला किया है, जिससे यह कुल 28,000 रुपये हो गया है। उन्होंने कहा, भुगतान की जा रही अतिरिक्त राशि पर सरकारी खजाने से 12,000 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here