कर्नाटक: मैसूर मिल पुनरुद्धार के कदम पर मिली-जुली प्रतिक्रिया

71

मांड्या : राज्य सरकार के मैसूर शुगर कंपनी लिमिटेड (मैसूर) के निजीकरण के खिलाफ फैसले और मिल को पुनर्जीवित करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति की स्थापना की घोषणा पर किसानों की मिली-जुली प्रतिक्रिया हुई है। 1933 में नलवाड़ी कृष्णराज वाडियार द्वारा शुरू की गई इस फैक्ट्री ने दशकों तक अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन 1980 के दशक के अंत से लगातार नुकसान उठाना पड़ा। हालांकि निजी कंपनियों ने मिल के संचालन में रुचि दिखाई, लेकिन सरकार को इसके राजनीतिक विरोध का सामना करना पड़ा और मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने सोमवार को घोषणा की कि उसे पुनर्जीवित करने के लिए नए प्रयास किए जाएंगे।

सरकार के नवीनतम कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए, कर्नाटक राज्य गन्ना उत्पादक संघ के अध्यक्ष कुरबुर शांता कुमार ने कहा कि, नए फैसले से मिल शुरू रहने पर अनिश्चितता जारी रहने की संभावना है। विशेषज्ञ समिति के गठन, अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत करने और सिफारिशों पर सरकार की कार्रवाई में समय लगेगा। अधिकांश किसानों के लिए यह कोई मायने नहीं रखता कि कौन मिल चलाता है। शांता कुमार ने कहा कि, पिछली सरकारों ने मिल के आधुनिकीकरण के लिए पिछले कई वर्षों में 450 करोड़ रुपये की धनराशि जारी की थी। फिर भी इसे प्रबंधित करने के लिए नियुक्त अधिकारी इसे लाभदायक बनाने में असफल रहे हैं। उन्होंने कहा, किसान नेताओं और संगठनों के बीच भी विभाजन है, जिनमें से कुछ चाहते हैं कि मिल का प्रबंधन सरकार द्वारा किया जाए।

द हिन्दू में प्रकाशित खबर के मुताबिक, मांड्या के गन्ना किसान एन चंद्रशेखर ने बताया कि इन सभी वर्षों में मिल का प्रबंधन सरकार द्वारा किया गया था और इसका ट्रैक रिकॉर्ड खराब था और इसलिए इसे जारी रखने से अलग परिणाम नहीं मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here