कर्नाटक: गन्ना किसानों द्वारा प्रति टन 3,300 रुपये गन्ना मूल्य करने की मांग…

11181

बेंगलुरु: राज्य सरकार द्वारा 2020–21 के लिए गन्ने की स्टेट एडवाइजरी प्राइस (SAP) निर्धारित करने को लेकर गन्ना किसानों के साथ आयोजित बातचीत अनिर्णायक रही क्योंकि किसानों ने प्रति टन 3,300 रुपये SAP की मांग की। चीनी और श्रम मंत्री शिवराम हेब्बार ने गुरुवार को 2020–21 के पेराई सत्र के लिए SAP पर चर्चा करने के लिए गन्ना किसानों और गन्ना विभाग अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता की। उच्च SAP मांग के बाद, मंत्री हेब्बार ने मुख्यमंत्री बी.एस. येदुयुरप्पा के साथ बात करके SAP पर उचित फैसला लेने का आश्वासन दिया।

केंद्र सरकार ने 2020–21 सीजन के लिए उचित और पारिश्रमिक मूल्य (FRP) 10 प्रतिशत की रिकवरी के लिए 2,850 रूपयें प्रति टन तय की है। हेब्बार को सौपे हुए ज्ञापन में, कर्नाटक राज्य गन्ना उत्पादक संघ के अध्यक्ष कुरुबुर शांताकुमार ने कहा कि, गन्ना किसानो को बढ़ी लागत के कारण एक टन गन्ना उत्पादन के लिए प्रति टन लगभग 3,050 रुपयों का खर्च उठाना पड़ता है। इसके अलावा, कई मिलें जानबूझकर रिकवरी कम करते है और किसानों को धोखा दिया जाता है।उन्होंने उन्होंने आरोप लगाया कि, कलबुर्गी, बेलगावी और बागलकोट के मिलों ने किसानों के लिए SAP दरों से भुगतान नहीं किया है। उन्होनें 15 प्रतिशत ब्याज के साथ लंबित बकाया का भुगतान करने की मांग की।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

1 COMMENT

  1. Jab bhi koi kisanon bank se loan leta hai to us per usi din se intrest (byaj) lagu ho jata hai. Lakin kisano k ganne ki payment 8 mahine piche chal rahi hai ab kisanon ko byaaj kyon ni diya ja raha yahan per kanoon kyon badal diya. Kisanon ka sath dene wali koi sarkaar nhi hai. Ye kisan naam ki jaati aise hi roj marti rahegi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here