कर्नाटक बंद पड़ी चीनी मिलों को करेगा फिर से शुरू

200

मैसूरु: कर्नाटक में मायशुगर और पांडवपुरा (PSSK) चीनी मिलें फिर से शुरू होने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, जिससे क्षेत्र के गन्ना किसानों का जीवन प्रभावित हुआ है। अब, रिपोर्टों के अनुसार, राज्य के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने दोनों चीनी मिलों को पुनर्जीवित करने का आश्वासन दिया है।

हाल ही में कर्नाटक राज्य प्रतिनिधि संघ (KRRS) के प्रतिनिधिमंडल ने राज्य में कृषि संकट की स्तिथि बताने के लिए येदियुरप्पा से मुलाकात की और उससे लेकर स्थायी समाधान तलाशने की गुजारिश की।

KRRS नेता दर्शन पुत्तनैया ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा की , “मुख्यमंत्री ने राज्य के दोनों चीनी मीलों को पुनर्जीवित करने का आश्वासन दिया है।”

मुख्यमंत्री के साथ बैठक के दौरान, KRRS ने उनसे अनुरोध किया कि वे इन मिलों के तहत गन्ना को मंड्या और अन्य जिलों की मिलों में स्थानांतरित करें और इसके लिए परिवहन लागत भी वहन करे।

रिपोर्टों के अनुसार, मिलों को पुनर्जीवित करने के लिए, सरकार मिलों की व्यवहार्यता का अध्ययन करेगी और निरीक्षण के लिए एक तकनीकी टीम भेजेगी।

हाल ही में, चीनी मंत्री आर.बी. टिम्मापुर ने कहा था कि मांड्या में मायशुगर कारखाना अगस्त में फिर शुरू हो जाएगा।

राज्य में गन्ना किसान पहले से ही तनाव में हैं क्योंकि उन्हें अब तक गन्ना बकाया नहीं मिला है। जिसके बाद उन्होंने मिलों और सरकार के खिलाफ अपना विरोध तेज कर दिया है। इससे पहले, किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री कुमारस्वामी से मुलाकात की थी ताकि उन्हें किसानों के दुख से अवगत कराया जा सके। जिसके बाद, उन्होंने चीनी मिलों द्वारा बकाया जल्द चूका दिया जाएगा यह आश्वासन दिया था।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here