कजाखस्तान कर रहा है चीनी आयात को कम करने की कोशिश

183

कजाखस्तान, जो अन्य देशों के लिए चीनी पर निर्भर है, अपने आयात निर्भरता को कम करना चाहता है। देश में दो चीनी कारखाने खोले जाने पर विचार किया जा रहा है, जो चीनी के उत्पादन में बढ़ोतरी में सहायता करेगा।

रिपोर्टों के अनुसार, 775 मिलियन डॉलर की लागत से ज़म्बीएल और पावलोदर क्षेत्रों में चीनी कारखाने बनाए जाएंगे। वे स्थानीय कच्चे माल का उपयोग करेंगे, और इसकी प्रति वर्ष 100,000 टन की क्षमता होगी।

सेंट्रल एसीएन शुगर कारपोरेशन के चीनी कारखानों ने कई महीनों तक अपनी गतिविधियों को निलंबित कर रखा था, जिससे चीनी उत्पादन में बाधा उत्पन्न हुई। 2018 की तुलना में, 2019 के पहले पांच महीनों में देश में चीनी उत्पादन 45.4 प्रतिशत गिर गया है।

चीनी उद्योग के विशेषज्ञों को लगता है कि नए कारखानों के शुरू होने के बाद यह चीनी गिरावट को रोकने में मदद करेगा। ज़म्बीएल में कारखाने की लागत 208 मिलियन डॉलर होने की उम्मीद है, जबकि पावलोदर में इसकी लागत 568 मिलियन डॉलर होगी।

देश में प्रति वर्ष औसत चीनी की खपत लगभग 5 लाख टन है। कजाखस्तान रूस और बेलारूस से चीनी का आयात करता है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here