केन्या ने युगांडा से गन्ने के आयात के लिए दी मंजूरी

282

हंगामे के बीच, आखिरकार, केन्याई सरकार ने युगांडा के गन्ना किसानों को सीमा पार बुसिया चीनी मिल को अपनी उपज का निर्यात करने की अनुमति दी है। इस निर्णय से युगांडा के गन्ना किसानों को बहुत बड़ी रहत मिलेगी।

इससे पहले, केन्या के बुसिया शहर में गन्ना किसानों ने आरोप लगाया कि स्थानीय मिलें युगांडा से गन्ने की तस्करी में शामिल हैं। उनका दावा था कि यह बुसिया सीमा के माध्यम से तस्करी किया जा रहा था। जिसके बाद मिलों द्वारा इसका खंडन किया गया।

युगांडा के बूसोगा उप-क्षेत्र में गन्ना उत्पादक चीनी मिलों की कम मांग के कारण गन्ने के साथ फंसे हुए हैं। इस क्षेत्र में अधिक गन्ने के बाद और इसके कोई खरीदार नहीं होने के कारण, पड़ोसी केन्या को अप्रमाणित कच्चे माल के निर्यात की योजना थी। लेकिन, युगांडा की सरकार ने निर्यात के प्रस्ताव का विरोध कर इसे रद्द कर दिया था। और गन्ना उत्पादकों के लिए मुसीबत खड़ी हो गई। कुछ महीने अपनी नियमित वार्षिक रखरखाव के लिए शुगर कॉर्पोरेशन ऑफ युगांडा लिमिटेड (SCOUL) और काकीरा चीनी मिल के बंद होने से युगांडा के गन्ना किसानों पर बहुत असर पड़ा है। अब गन्ना निर्यात की अनुमति से बसोगा उप-क्षेत्र में किसानों को राहत मिलने की उम्मीद है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here