केन्या: चीनी के अवैध आयात से स्थानीय गन्ना किसान, मिलरों में गुस्सा

187

नैराबी: पश्चिमी केन्या के गन्ना उत्पादक चाहते हैं कि, कृषि, मत्स्य और खाद्य प्राधिकरण (AFFA) द्वारा बिना लाइसेंस और अवैध चीनी आयात पर सख्ती से कार्रवाई होनी चाहिए। स्थानीय किसान और मिलरों ने दावा किया है कि, पड़ोसी युगांडा से बिना लाइसेंस के बड़ी मात्रा में चीनी आयात हो रही है। स्थानीय चीनी उद्योग से जुड़े लोगों ने आशंका जताई कि, पश्चिमी और न्यानजा क्षेत्रों में अवैध चीनी की पहले से ही बाजार में बाढ़ आ गई है। उन्होंने बुंगोमा, मुकेन्या, मास्साबागो, न्यू अडाटिया, महदव, किमिनिनी, वानाची स्टोर्स, सुपर स्टोर मिनीमैक्स, मिसिकू, किताले, चरनगनी और जरलम का हवाला देते हुए दावा किया की, कुछ क्षेत्रों में आयात का पता लगाया जा सकता है।

उन्होंने आशंका व्यक्त की कि, चीनी की अवैध आयात स्थानीय उत्पादन को प्रभावित करेगी और कोरोनो वायरस महामारी के कारण पहले से ही खराब अर्थव्यवस्था को नकारात्मक रूप से प्रभावित करेगी। बुंगोमा के गवर्नर और शुगर टास्क फोर्स के सदस्य विक्लिफ वांगमाती ने कहा कि, अगर अवैध आयात रोकने के लिए कुछ नहीं किया गया, तो किसानों को सबसे ज्यादा नुकसान होगा। न्ज़िया शुगर के चेयरमैन जोश वामनगोली ने कहा कि, चीनी का आयात करने वाले लोग स्थानीय उद्योगों को मारना चाहते हैं। किसानों को भुगतान करने के लिए हमारे पास पैसे नहीं हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here