केन्या: मुमियास चीनी मिल पुनर्जीवित करने पर सस्पेंस बरकरार…

191

नैरोबी, केन्या: आर्थिक रूप से संघर्ष कर रही मुमियास चीनी मिल को शुरू करने के लिए केन्या कमर्शियल बैंक (केसीबी) द्वारा नियुक्त रिसीवर प्रबंधक द्वारा मिल का पदभार संभालने के एक साल बाद अभी तक मिल को पुनर्जीवित करने के बारे में सस्पेंस बरकरार है। सितंबर 2019 में कर्ज में डूबे मिल का पदभार संभालने के दौरान वेंकट रमन राव ने पेराई का वादा किया था, लेकिन किसानों ने राव पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मिल के प्रबंधन अधिकारियों ने बताया कि, वर्तमान में इथेनॉल का उत्पादन चल रहा है। पिछले हफ्ते, हम 470,000 लीटर का उत्पादन करने में कामयाब रहे और हम अपने परिचालन को बनाए रखने के लिए राजस्व उत्पन्न करने के लिए इसे बेच रहे हैं। पिछले महीने उत्पाद की बढ़ती मांग के कारण मिलर ने Sh20 प्रति लीटर इथेनॉल की कीमत बढ़ा दी थी। लेकिन मिलर के इस कदम से बिक्री में गिरावट, बिक्री धीमी होने के समाचार मिले हैं।

लुगारी के सांसद अयूब सावुला ने कहा कि, राव को पिछले एक वर्ष के लिए रिसीवर प्रबंधक के रूप में अपने प्रदर्शन के बारे में एक रिपोर्ट देनी चाहिए। किसान चाहते हैं कि, रिसीवर प्रबंधक राव एक रिपोर्ट प्रकाशित करे ताकि जनता को यह पता चल सके कि वह मिल को पुनर्जीवित करने में प्रगति कर रहें है या नहीं। किसानों ने कहा कि, उन्हें उम्मीद थी कि रिसीवर मैनेजर राव मिल की किस्मत बेहतर बनाने के लिए रणनीति बनाएंगे। केन्या के नेशनल फेडरेशन ऑफ गन्ना किसान (केएनएफएसएफ) के उप सचिव साइमन वेस्चेरे ने कहा कि, मुमियास चीनी मिल क्षेत्र के गन्ना किसान भी राव द्वारा किए गए वादों से उब गए है। उन्होंने आरोप लगाया की, मिल को चालू करने के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण उपकरणों की खरीद के लिए रिसीवर प्रबंधक द्वारा योजनाएं अभी तक तैयार नहीं की गई हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here