कोल्हापुर: अच्छे मानसून के चलते जिले के अधिकांश बांधो में 100 प्रतिशत पानी

50

कोल्हापुर: अच्छे मानसून के चलते कोल्हापुर जिले में बांध क्षमता से भर गए हैं, जो किसानों और नागरिकों दोनों के लिए एक अच्छा संकेत है। जिले के 14 सिंचाई परियोजनाओं में से 10 बांध 100%, जबकि शेष 95% से अधिक भरे हुए हैं। तुलसी, वारणा, दूधगंगा जैसे प्रमुख बांध क्षमता से भरे हुए हैं, जबकि राधानगरी 98% भरा हुआ हैं। पिछले वर्ष की तुलना में, बांध मुख्य रूप से अपने जलग्रहण क्षेत्रों में अतिरिक्त बारिश के कारण अधिक भर गए हैं। पिछले साल के विपरीत, इस साल जुलाई में ही भारी बारिश के कारण बांधों में पानी भर गया। 2020 में, बांधों के पूर्ण क्षमता से भरने के लिए अधिकारियों को सीजन के अंत तक इंतजार करना पड़ा था।

कोल्हापुर इरीगेशन सर्कल के अधीक्षक अभियंता महेश सुर्वे ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को बताया की, हमारा 15 अक्टूबर तक बांधों को भरने का लक्ष्य इस बार जल्दी पूरा कर लिया गया है। शेष बांध भी अगले एक सप्ताह से 10 दिनों में अपनी क्षमता के अनुसार भर दिए जाएंगे। अब नदियों में भी कुछ समय के लिए सिंचाई की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त जल स्तर है। हमें यह सुनिश्चित करना है कि अगले साल मार्च तक बांधों में पर्याप्त जल स्तर बना रहे, क्योंकि उस समय सिंचाई के साथ-साथ पीने की मांग भी तेजी से बढ़ती है। जिले में पानी की जरूरत वाले रबी फसलों की खेती शुरू हो गई है। गन्ने की फसल परिपक्व हो गई है, उसे भी कटाई होने तक बनाए रखने के लिए भारी सिंचाई की आवश्यकता होती है। सिंचाई विभाग इसके लिए नहरों के माध्यम से और नदियों के किनारे बैराजों में अंतराल पर भंडारण करके भी पानी उपलब्ध कराता है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here