अगर पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ओर टिड्डियों का झुंड आता है तो गन्ने की फसलों को हो सकता है नुकसान

231

लखनऊ : टिड्डियों के खतरे से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने निगरानी समितियों का गठन किया है और राज्य के प्रत्येक सीमावर्ती जिले में टिड्डियों को मारने के लिए रसायनों के छिड़काव के लिए 5 लाख रुपये की सहायता की घोषणा की है। कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया की, यूपी सरकार ने टिड्डियों को मारने के लिए रसायनों के छिड़काव के लिए राज्य के प्रत्येक सीमावर्ती जिलों में 5 लाख रुपये दिए हैं। इसके अलावा, स्थिति की निरंतर निगरानी के लिए मुख्य विकास अधिकारी के तहत प्रत्येक जिले में एक निगरानी समिति बनाई गई है। उन्होंने कहा कि, एक दल टिड्डियों के झुंड का पीछा कर रहा है और उन पर रसायनों का छिड़काव कर रहा है, इस प्रकार कीड़ों को मारने में सहयोग कर रहा है।

शाही ने कहा, झांसी के कुछ हिस्सों में टिड्डियों द्वारा नुकसान की कुछ रिपोर्ट मिली है, जहां टिड्डों ने कद्दू की फसलों को नुकसान पहुंचाया है। किसानों को नुकसान की भरपाई की गई है। बाकी जगहों से, फसलों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। मंत्री ने दावा किया कि, अगर पश्चिमी यूपी की ओर टिड्डियों का झुंड आता है, तो वे गन्ने की फसलों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसी तरह, अगर वे लखनऊ पहुंचते हैं, तो वे आम की खेती को प्रभावित कर सकते हैं। अधिकारियों ने कहा कि, महोबा जिला प्रशासन ने रविवार को आधे किलोमीटर में फैले टिड्डियों के झुंड पर रसायनों का छिड़काव किया था, जिससे लाखों टिड्डियों को मारा गया था। टिड्डियों से निपटने के लिए कृषि विश्वविद्यालयों और कीट प्रबंधन केंद्रों की सहायता लेने के भी निर्देश जारी किए गए हैं।

टिड्डियों का झुंड आता है तो गन्ने की फसलों को हो सकता है नुकसान यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here