चीनी की कम अंतरराष्ट्रीय कीमतें निर्यात को कर सकती है प्रभावित

200

मुंबई: देश में चीनी का निर्यात कम होने की संभावना है, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतें कम होने और मिलर्स अपने पुराने स्टॉक को इथेनॉल में बदलना पसंद कर रहे हैं। बॉम्बे शुगर मर्चेंट एसोसिएशन के सेक्रेटरी मुकेश कुवाडिया ने कहा कि मौजूदा अंतरराष्ट्रीय कीमतें निर्यात के लिए व्यवहार्य नहीं हैं, जो सरकार की 60 लाख टन (एलटी) निर्यात की योजना में एक बड़ी बाधा डाल सकती हैं।

उन्होंने कहा की “चूंकि भारत ने 60 लाख टन चीनी निर्यात करने के अपने निर्णय की घोषणा की है, इसलिए अंतर्राष्ट्रीय कीमतों में गिरावट आई है। वर्तमान दरों पर, अधिकांश मिलर्स अपने नए स्टॉक को रोक के रखेंगे या पुराने स्टॉक को निर्यात बाजारों में भेजने के बजाय इथेनॉल में परिवर्तित कर देंगे।”

केंद्र सरकार ने 28 अगस्त को 6,268 करोड़ रुपये की चीनी निर्यात सब्सिडी योजना की घोषणा की, जिससे देश को 60 लाख टन चीनी निर्यात हासिल करने में मदद मिलने की उम्मीद है। देश चीनी अधिशेष से जूझ रहा है और इसलिए सरकार का मकसद चीनी निर्यात को बढ़ावा देना है। कैबिनेट ने चीनी सीजन 2019-20 के लिए चीनी मिलों को निर्यात करने के लिए 10,448 रुपए प्रति टन के हिसाब से सब्सिडी देने को मंजूरी दी है। चीनी निर्यात का पैसा कंपनी के खाते में नहीं बल्कि किसानों के खाते में जाएगा, और बाद में शेष राशि, यदि कोई हो, मिल के खाते में जमा की जाएगी।

कुवाडिया ने कहा, हालांकि यह योजना कच्ची और सफेद चीनी दोनों की कम अंतरराष्ट्रीय कीमतों को देखते हुए निर्यात को बढ़ावा नहीं देगी। निर्यात के बजाय, मिलर्स का कहना है कि वे अपने पुराने स्टॉक को इथेनॉल में बदलना पसंद करेंगे, जो कि तेल कंपनियों द्वारा 59.48 रुपये प्रति लीटर में खरीदा जाएगा। यह देश में पहली बार होगा जब मिलों को चीनी और गन्ने के रस से सीधे इथेनॉल के निर्माण की अनुमति दी जाएगी। महाराष्ट्र में चीनी मिलें, जिनका कैरी फॉरवर्ड स्टॉक उत्तर प्रदेश की तुलना में अधिक है, निर्यात के बजाय इस मार्ग को चुनना पसंद करेंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here