गन्ना किसानों का पिछले चार सालों में सबसे कम भुगतान बकाया

141

नई दिल्ली: द इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित खबर के मुताबिक, उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, सीजन 2020-21 के अंत में मिलों द्वारा किसानों को गन्ने का बकाया भुगतान 6,667 करोड़ रुपये बाकी है, जो चार साल में सबसे कम है। 2020-21 के सीजन में, मिलों द्वारा 91,685 करोड़ रुपये के गन्ने की खरीद की गई, जिसके खिलाफ किसानों को अधिकांश बकाया भुगतान किया गया है, और केवल 6,667 करोड़ रुपये या 7% गन्ना बकाया लंबित हैं। 2019-20 के सीजन के अंत में, किसानों को देय बकाया आंकड़ा 10,342 रुपये या 13.62% था। भारत में चीनी का मौसम 1 अक्टूबर से शुरू होता है और अगले वर्ष 30 सितंबर को समाप्त होता है।

खाद्य और सार्वजनिक वितरण के संयुक्त सचिव सुबोध कुमार सिंह ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि, चीनी का अधिक निर्यात और एथेनॉल बनाने के लिए अधिक मात्रा में चीनी का इस्तेमाल दो मुख्य कारक हैं जिन्होंने बकाया कम करने में मदद की। पिछले तीन वर्षों में चीनी निर्यात काफी बढ़ा है। 2020-21 सीजन के दौरान चीनी का निर्यात 70 लाख मीट्रिक टन तक पहुंचने की उम्मीद है। इसके अलावा, एथेनॉल बनाने के लिए चीनी का डायवर्जन भी 2020-21 सीजन में 9.3 लाख मीट्रिक टन से बढ़कर 22 लाख मीट्रिक टन हो गया है। आने वाले वर्षों में इसके 35 लाख मीट्रिक टन तक पहुंचने की उम्मीद है।

खाद्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, चीनी मिलों ने 2020-21 सीजन के दौरान यूपी में 33,023 करोड़ रुपये के गन्ने की खरीद की, जिसके मुकाबले सीजन के अंत में 5,053 रुपये का भुगतान नहीं हुआ।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here