महाराष्ट्र: खरीफ खाद्यान्न के साथ गन्ना उत्पादन में भी बढ़ोतरी

207

मुंबई: जहां 2020 में कड़े लॉकडाउन के दौरान राज्य की अर्थव्यवस्था में गिरावट आई, वहीं कृषि क्षेत्र में मजबूती दिखाई पड़ी। खरीफ खाद्यान्न का उत्पादन 2019 की तुलना में 2020 में 49% तक बढ़ा है। खरीफ सीजन के आंकड़ों से पता चलता है कि, अनाज का उत्पादन 59%, दलहन 19%, तिलहन 28% और प्रमुख नकदी गन्ना और कपास की फसल का उत्पादन 44% हुआ। राज्य में खरीफ या मानसून की फसल मुख्य फसल मानी जाती है। राज्य में आगामी खरीफ सीजन की राज्य सरकार द्वारा की गई समीक्षा में गुरुवार को यह विवरण प्रस्तुत किया गया। आने वाले खरीफ सीजन में, राज्य औसत से अधिक मानसून, खेती के क्षेत्र में वृद्धि और औसत की तुलना में उत्पादन में उछाल की उम्मीद कर रहा है।

2019 से 2020 तक के आंकड़ों से पता चलता है कि, खरीफ खाद्यान्न उत्पादन 61.8 लाख टन से बढ़कर 92 लाख टन हो गया। खरीफ अनाज का उत्पादन 46.5 लाख टन से बढ़कर 73.8 लाख टन हो गया, जबकि खरीफ दलहन का उत्पादन 15.4 लाख टन से बढ़कर 18.3 लाख टन हो गया। खरीफ तिलहन का उत्पादन 50.3 लाख टन से बढ़कर 64.6 लाख टन हो गया। गन्ने का उत्पादन 693 लाख टन से बढ़कर 1,000 लाख टन हो गया। वहीं कपास का उत्पादन 66.4 लाख गांठ से बढ़कर 95.5 लाख गांठ हो गया। 2021 के आने वाले खरीफ सीजन में, राज्य औसत से अधिक मानसून की उम्मीद कर रहा है और खरीफ की खेती के क्षेत्र में औसतन 151 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 157.2 लाख हेक्टेयर होने का अनुमान लगाया है। जिससे खरीफ फसलों के उत्पादन में औसत की तुलना में उछाल की भी उम्मीद है।

खरीफ 2021 के लिए, राज्य को उम्मीद है कि खाद्यान्न उत्पादन औसतन 71.5 लाख टन से बढ़कर 108.4 लाख टन हो जाएगा। अनाज का उत्पादन 58.3 लाख टन से बढ़कर 85 लाख टन होने की उम्मीद है जबकि दालों का उत्पादन औसतन 13.3 लाख टन से बढ़कर 23.5 लाख टन होने की उम्मीद है। आगामी खरीफ सीजन में तिलहन का उत्पादन औसतन 35.8 लाख टन से बढ़कर 60 लाख टन होने की उम्मीद है, जबकि गन्ने का उत्पादन 775.5 लाख टन के औसत से बढ़कर 902.5 लाख टन होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here