महाराष्ट्र: कृषि विभाग ने किसानों को जल्दी बुवाई न करने की सलाह दी

118

मुंबई: महाराष्ट्र के कृषि विभाग ने किसानों को समय से पहले बुवाई न करने की सलाह दी है, हालांकि कई हिस्सों में अच्छी बारिश हुई है। विभाग ने किसानों को बीज की बर्बादी की संभावना से बचने के लिए अपने क्षेत्रों में 80 मिमी से 100 मिमी बारिश होने के बाद ही बुवाई करने के लिए कहा है। आगामी सीजन के लिए जमीन तैयार करने में किसान जुटे है, और खरीफ फसल बुआई के गतिविधि ने रफ्तार पकड़ ली है।

द इंडियन एक्सप्रेस डॉट कॉम में प्रकाशित खबर के मुताबिक, कृषि विभाग ने अपनी एडवाइजरी में किसानों को सोयाबीन, कपास, मक्का सहित अन्य फसलों की बुवाई नहीं करने की सलाह भी दी है। एडवाइजरी में समय से पहले बुवाई न करने की चेतावनी दी गई है क्योंकि अपर्याप्त नमी के कारण अंकुरण में विफलता हो सकती है। पिछले साल, सोयाबीन किसानों ने अंकुरण की विफलता की शिकायत की थी, और इसका एक कारण अपर्याप्त मिट्टी की नमी थी। महाराष्ट्र में 40 लाख हेक्टेयर में कपास और सोयाबीन की बुवाई होने की उम्मीद है। तूर, उड़द और मूंग जैसी दलहनों की बुवाई 20 लाख हेक्टेयर के संयुक्त क्षेत्र में होने की उम्मीद है। गन्ना एक अन्य महत्वपूर्ण नकदी फसल है और इसके लगभग 10 लाख हेक्टेयर में बोए जाने की उम्मीद है।

पिछले कुछ दिनों में राज्य के कई हिस्सों में भारी से मध्यम बारिश दर्ज की गई है। कोंकण, मराठवाड़ा, कोल्हापुर, पुणे, सांगली, सतारा और उत्तरी महाराष्ट्र और विदर्भ के कुछ हिस्सों में छिटपुट बारिश हुई है। राज्य के बांधों और जलाशयों में पर्याप्त मात्रा में पानी है। मानसून मंगलवार को केरल तट पर पहुंचा और अगले कुछ दिनों में इसके महाराष्ट्र पहुंचने की उम्मीद है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस मौसम में सामान्य बारिश की भविष्यवाणी की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here