महाराष्ट्र: पेराई सत्र अंतिम चरण में पहुंचा, 2,300 करोड़ रुपये से अधिक भुगतान बकाया

197

मुंबई : महाराष्ट्र में 2020-21 का गन्ना पेराई सत्र अंतिम चरण में पहुंच चूका है, 10 मिलों ने मंगलवार तक अपना परिचालन बंद किया हैं। फरवरी के अंत तक 2,367.46 करोड़ रुपये के भुगतान बकाया है। 28 फरवरी तक, महाराष्ट्र में चीनी मिलों ने 744.62 लाख टन गन्ने की पेराई की। राज्य में 187 मिलों में से 97 ने किश्तों में एफआरपी का भुगतान करने के लिए किसानों के साथ समझौता किया है। समझौतों को ध्यान में रखते हुए, राज्य में भुगतान किया जाने वाला वास्तविक एफआरपी 16,275.68 करोड़ रुपये थी। हालांकि, मिलों ने कुल 13,917.38 करोड़ रुपये का भुगतान प्रभावित किया है, और इस तरह 2,367.46 करोड़ रुपये का बकाया चल रहा है। कुल 187 मिलों में से 74 ने 100 प्रतिशत भुगतान किया है,जबकि 113 मिलें ऐसा करने में विफल रही हैं।

पिछले दो सत्रों से, महाराष्ट्र में मिलें अपने किसानों के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर कर रही हैं, जो उन्हें किश्तों में एफआरपी का भुगतान करने की अनुमति देता है।अधिकांश मिलों ने गन्ने की डिलीवरी के 14 दिनों के भीतर एफआरपी का 75-80 प्रतिशत भुगतान किया है, जबकि शेष का भुगतान अगले सीजन के शुरू होने से पहले किस्तों में किया जाएगा। मिलर्स का कहना है कि,यह कदम उन्हें चीनी आयुक्त और किसानों को देर से भुगतान पर ब्याज का भुगतान करने के कानूनी खतरे दोनों कार्रवाई से बचाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here