महाराष्ट्र सरकार इथेनॉल उत्पादन के लिए कर सकती है निवेश

195

हि बातमी ऐकण्यासाठी इमेज खालील बटन दाबा.

नई दिल्ली: महाराष्ट्र सरकार गन्ने के रस को इथेनॉल में बदलने के लिए राज्य में चीनी मिलों द्वारा स्थापित की जा रही डिस्टलरी में निवेश करने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है।

राज्य के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ द्वारा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के सामने एक विस्तृत प्रस्तुति दी गई थी। जहा विचार हुआ की, कुल परियोजना लागत में से 30 प्रतिशत का राज्य सरकार द्वारा इक्विटी के रूप में योगदान किया जा सकता है, 10 प्रतिशत मिल से आएंगे और बाकी 60 प्रतिशत बैंकों और वित्तीय संस्थानों से जुटाए जायेंगे

हालांकि, यूनिट को एक इथेनॉल में सीधे गन्ने के रस को परिवर्तित करने के लिए एक स्टैंडअलोन डिस्टिलरी होना चाहिए, गायकवाड़ ने कहा।

खबरों के मुताबिक, निकट अवधि में इसकी मंजूरी के लिए राज्य मंत्रिमंडल को प्रस्ताव पेश किया जाएगा।

केंद्र और राज्य सरकारें भारत के तेल आयात को कम करने के लिए पेट्रोल के साथ इथेनॉल के सम्मिश्रण को प्रोत्साहित कर रही हैं।

गन्ने की अधिकता के कारण चीनी स्टॉक में तेजी आ रही है और यह स्थिती महाराष्ट्र में अगले ढाई साल तक रह सकती है। चीनी की कम अंतर्राष्ट्रीय कीमतों के कारण, किसानों को उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी ) का भुगतान करना भी एक चुनौती बन गया है। चीनी अधिशेष से निपटने के लिए इथेनॉल उत्पादन उद्योग के लिए लाभदायक साबित हो सकता है।

इससे पहले, महाराष्ट्र के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड ने राज्य सरकार से सिफारिश की है कि, इथेनॉल उत्पादन क्षमता बढ़ाने और उसकी संरचना विकसित करने के लिए राज्य में सहकारी चीनी मिलों को 500 करोड़ उपलब्ध कराए जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here