महाराष्ट्र को इस सीजन में इथेनॉल के लक्ष्य को पूरा करने में आ सकती है मुश्किल

217

मुंबई : चीनी मंडी

सुखा और बाढ से प्रभावित महाराष्ट्र में इस साल गन्‍ने की फसल बुरी तरह से प्रभावित हुई है, जिसका सीधा असर इथेनॉल उत्पादन पर देखा जा रहा है। महाराष्ट्र में चीनी मिलरों ने 58 करोड़ लीटर इथेनॉल के लिए तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) द्वारा रखे गए टेंडर के लिए केवल 22 करोड़ रुपये की बोली प्रस्तुत की है। अखिल भारतीय स्तर पर, तेल कंपनियों ने 2019-20 में 5.11 बिलियन लीटर इथेनॉल के लिए निविदाएं रखीं, जिसमें से चीनी मिलों ने 1.63 बिलियन लीटर इथेनॉल उत्पादन की पेशकश की है, जो की 2018-19 सत्र की तुलना में 13.29% कम है। गन्ना उत्पादन में कमी के कारण इथेनॉल आपूर्ती में गिरावट देखी जा रही है।

महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव शुगर फैक्ट्रीज़ फेडरेशन (MSCSFF) एमडी संजय खताल ने बताया कि राज्य में वर्तमान फसल की स्थिति को देखते हुए, कुल मोलासिस की उपलब्धता काफी सीमित है।

पिछले साल, राज्य में कुल 86 करोड़ लीटर की आवश्यकता थी, मिलर्स ने 58 करोड़ लीटर इथेनॉल (लगभग 67%) की आपूर्ति की थी। चूंकि इस सीजन में गन्ने की फसल कम है, इसलिए मोलासिस की उपलब्धता कम होने की संभावना है।

हालही में चीनी अधिशेष को कम करने के मकसद ने सरकार ने इथेनॉल के दरों में वृद्धि की थी। केंद्र सरकार ने बी- हैवी मोलासेस वाले इथेनॉल की कीमतें 52.43 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 54.27 रुपये प्रति लीटर कर दी हैं और वही दूसरी ओर सी-हैवी मोलासेस वाले इथेनॉल की कीमत 43.46 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 43.75 रुपये लीटर कर दी हैं। गन्ने के रस, चीनी, चीनी सीरप से सीधे बनने वाले इथेनॉल का भाव 59.48 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here