इथेनॉल आपूर्ति में महाराष्ट्र ने मारी बाज़ी

829

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

पुणे: चीनी मंडी

महाराष्ट्र, जो कि देश का प्रमुख चीनी उत्पादक राज्य है, इथेनॉल उत्पादन और आपूर्ति में भी अव्वल है। राज्य में 93 परियोजनाओं से इथेनॉल का उत्पादन किया जा रहा है। केंद्र सरकार द्वारा इथेनॉल खरीद दर बढ़ाने से राज्य में बहुत सारी परियोजनाएं शुरू हुई हैं। दूसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश है।

केंद्र सरकार ने इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए खरीद दर बढ़ाने का फैसला किया। जब कांग्रेस की सरकार केंद्र में थी, तब इथेनॉल खरीद दर 27 रुपये तक था। बहुत कम कीमतों के कारण चीनी मिलें और स्वतंत्र इथेनॉल परियोजनाएं इथेनॉल का उत्पादन नहीं कर सकती थीं। इसलिए, देश में सभी इथेनॉल परियोजनाओं को बंद करना पड़ा था। 2014 में भाजपा सरकार आने के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इथेनॉल उद्योग के लिए खरीद दर बढ़ाने का फैसला किया। जिसके बाद राज्य में इथेनॉल परियोजनाओं को बढ़ावा दिया गया।

वर्तमान में महाराष्ट्र में इथेनॉल का उत्पादन चल रहा है। देश में इथेनॉल का उत्पादन बढ़ा है और केंद्र सरकार की पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा पूरे देश में 329 करोड़ लीटर इथेनॉल की मांग की गई थी। दरअसल, 313 करोड़ लिटर का टेंडर निकला था और वास्तव में, पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा इथेनॉल आपूर्तिकर्ताओं को 237 करोड़ लिटर इथेनॉल की आपूर्ति करने का आदेश दिया गया था। इस साल, पूरे देश में दिसंबर के बाद इथेनॉल के उत्पादन में तेजी से वृद्धि हुई है। 14 मई तक, देश भर में पेट्रोलियम कंपनियों को 104 करोड़ लीटर इथेनॉल की आपूर्ति हुई है। इनमें से ज्यादातर इथेनॉल की आपूर्ति महाराष्ट्र से होती है और उत्तर प्रदेश दूसरे स्थान पर है। कर्नाटक राज्य 11 करोड़ 53 लाख लीटर की आपूर्ति करता है और तीसरे स्थान पर है।

राज्य की 93 परियोजनाओं से 43 प्रतिशत आपूर्ति…

देश भर में 21 राज्यों के इथेनॉल आपूर्तिकर्ताओं ने इस साल इथेनॉल की आपूर्ति के लिए निविदा भरी थी। हालांकि देश भर से इथेनॉल का उत्पादन किया जा रहा है, लेकिन महाराष्ट्र अभी भी देश में नंबर एक पर है। महाराष्ट्र की तेल कंपनियों ने 42 करोड़ 6 लाख 42 हजार लीटर इथेनॉल सप्लाई के लिए बोली लगाई थी। वास्तव में, 82 करोड़ 5 लाख 39 हजार लीटर इथेनॉल की आपूर्ति के लिए निविदा दी थी। महाराष्ट्र की चीनी मिलें और इथेनॉल परियोजनाओं ने पड़ोसी राज्यों में इथेनॉल की आपूर्ति के लिए भी निविदा भरी है। वास्तव में, 44 करोड़ लीटर इथेनॉल की आपूर्ति के आदेश मिले। राज्य की 93 परियोजनाओं में से, 14 मई तक, 19.66 करोड़ लीटर (43 प्रतिशत) इथेनॉल की आपूर्ति की गई है।

देश भर में 39 और उत्तर प्रदेश से 40 प्रतिशत इथेनॉल की खरीद…

देश भर में इथेनॉल परियोजनाओं ने 14 मई तक 39 प्रतिशत इथेनॉल कि आपूर्ति की है और 40 प्रतिशत इथेनॉल पेट्रोलियम कंपनियां उत्तर प्रदेश से खरीद रही हैं। उत्तर प्रदेश में 44.89 लाख लीटर इथेनॉल में से 18 लाख 4 हजार लीटर की आपूर्ति हो चुकी है। कर्नाटक से अभी तक 11 लाख 53 हजार लीटर की सप्लाई हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here