महाराष्ट्र: चीनी मिलें चाहती हैं बाढ़ प्रभावित गन्ना किसानों के लिए ऋण माफी का विस्तार

220

मुंबई : चीनी मंडी

महाराष्ट्र के चीनी मिलों ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से आग्रह किया है कि, कोल्हापुर, सांगली और सातारा क्षेत्रों में किसानों को हाल ही में आई बाढ़ में एक हेक्टेयर (2.47 एकड़) से दो हेक्टेयर के लिए ऋण माफी का विस्तार किया जाए। मिलरों ने मौजूदा संकट को दूर करने के लिए गन्ने की पेराई के लिए प्रति टन 500 रुपये का एकमुश्त अनुदान भी मांगा है, क्योंकि मिलर्स उत्पादन लागत को पूरा नहीं कर पा रहे हैं। इसके अलावा, मिलरों ने उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) के भुगतान के लिए चीनी मिलों को केंद्र द्वारा दिए गए विभिन्न ऋणों के तहत बकाया राशि जारी करने की मांग की है।

महाराष्ट्र राज्य सहकारी चीनी मिल महासंघ (MSCSFF) के अध्यक्ष जयप्रकाश दांडेगांवकर ने फडणवीस को कहा है की, किसानों को 2019-20 के चीनी मौसम के लिए नुकसान का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि उनकी फसल बाढ़ के पानी में बर्बाद हो गई है, इसलिए सरकार को 5 एकड़ तक किसानों को 50,000 रुपये प्रति एकड़ का अनुदान देना चाहिए। दाडेगांवकर ने कहा कि, गन्ने की रिकवरी प्रभावित होगी, इसलिए सरकार को बाढ़ के कारण कम होने वाली प्रत्येक प्रतिशत रिकवरी के लिए 310 रुपये प्रति टन की सहायता देनी चाहिए। सातारा, सांगली और कोल्हापुर में बाढ़ के कारण सामूहिक रूप से 53 मिलें है। उन्होंने कहा कि, डेटा अभी भी एकत्र किया जा रहा है और प्रारंभिक आंकड़ों से पता चलता है कि 53 मिलों में से 29 मिलों का परिचालन क्षेत्र प्रभावित हुआ है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here