अब महाराष्ट्र में बीट से भी होगा चीनी उत्पादन…

900

कोल्हापुर : चीनी मंडी

चीनी उत्पादन में देश का दुसरा सबसे बडा राज्य महाराष्ट्र बीट से गन्‍ना उत्पादन करने की तैयारी में है। इस प्रयोग की सफलता के बारे में विचार विमर्श करने के लिए आज (रविवार) अंबोली (जि.सिंधुदुर्ग) गन्ना प्रजनन केंद्र के वसंतदादा शुगर इंस्टीट्यूट (व्हीसीआय) में सुबह बोर्ड नियामक मंडल की दस बजे बैठक होगी।

भूतपूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार की अध्यक्षता मेें होनेवाली इस बैठक में अजित पवार, दिलीप वलसे-पाटिल, जयंत पाटिल, बालासाहेब थोरात, राजेश टोपे और अन्य उपस्थित होंगे।

महाराष्ट्र में वर्तमान में 101 सहकारी और 87 निजी चीनी मिलें हैं। एक बार ऐसा था कि गन्ना मौसम कम से कम छह महीने तक चलता था, लेकिन अब मिलों की बढ़ती संख्या के कारण गन्‍ना मौसम ढाई से चार महीने चलता है। कर्नाटक में, निजी मिलें 100 दिनों में क्रशिंग कर रहे हैं। इसलिए गन्‍ना मौसम के लिए साल के और 100 दिन खर्च किए जाने की आवश्यकता है। इसलिए, गन्ना के मौसम के बाद ऐसा माना जाता है कि, हम कम से कम दो से तीन महीने तक उसी तंत्र का उपयोग करके बीट से चीनी का निर्माण कर सकते हैं।

व्हीसीआय पिछले दो वर्षों से राजाराम बापू शुगर फैक्ट्री (ड्रुवा) और समर्थ शुगर (जालना) में बीट उत्पादन का उपयोग कर रहा है। इस बार बारामती एग्रो फैक्ट्री के क्षेत्र में इसे लिया जा रहा है। शोधकर्ता अध्ययन कर रहे है कि, विभिन्न मौसम स्थितियों में बीट की फसल कैसे आती है।
15 दिसंबर को पुणे के मुख्यालय में व्हीसीआय की वार्षिक बैठक आयोजित की जा रही है। इस बैठक में यह विषय भी प्रस्तुत किया जाएगा। रविवार को होनेवाली बैठक में कल्लाप्पान्ना आवाडे, अरुण लाड, विजयसिंह मोहित-पाटिल, शंकरराव कोल्हे, गणपतराव तिडके, यशवंतराव गडाख, बी जी ठोम्ब्रे, रोहित पवार, नरेंद्र मुर्कंबी शामील होंगे।

बीट के बारे में…

बीट एक चार से पांच महीने की फसल है, मुख्य रूप से उच्च ठंड वाले क्षेत्रों में उत्पादित होती है। तो यूरोप में, एक चीनी बनाने वाला उद्योग है। गन्ना मुख्य रूप से ब्राजील के साथ भारत, थाईलैंड, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीकी देशों में उत्पादित की गई थी।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here