आईटीसी फूड्स आने वाले महीनों में चीनी की मांग में इजाफा देख रहा है…

1584

कोरोनो वायरस महामारी के कारण जहां कई महीनों के लॉकडाउन के कारण दुनिया भर के बाजारों, मॉल और सुपरमार्केट की रौनक़ चली गई है, वहीं दूसरी ओर भारत में विभिन्न उत्पादों के इस्तेमाल और खपत के बदलते पैटर्न को भी देखा गया है। हर एक कमोडिटी उद्योग मांग में फिर एक बार सामान्य आपूर्ति की कोशिशों में जुटा है। मार्केट के बड़े प्लेयर्स भी आनेवाले दिनों में चीनी की मांग में बढ़ोतरी की संभावना जता रहें है। ‘चीनीमंडी’ के साथ खास बातचीत में, आईटीसी लिमिटेड, प्रोक्योरमेंट एंड लॉजिस्टिक्स (फूड डिवीजन) हेड सोमनाथ चटर्जी ने चीनी पर विशेष जोर देते हुए, कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते भारत में चीनी की खपत के असर पर अपने विचार साझा किए।

उन्होंने कहा की, “वर्तमान चीनी वर्ष के दौरान कुल चीनी की खपत लगभग 24.5 मिलियन टन होने की उम्मीद है, जो कि कोरोना प्रकोप के पहले के अनुमानित 26 मिलियन टन से कम है। हालांकि, भारत में अगले साल चीनी की मांग फिर से 26 मिलियन टन तक वापस जा सकती है। अगर भारत सरकार द्वारा निर्यात सब्सिडी का अच्छी तरह से समर्थन किया जाता है तो 2020-21 चीनी वर्ष के दौरान 5-5.5 MMT निर्यात संख्या के साथ विश्व के चीनी कमी को भरा जा सकता है। उन्होंने कहा की, अक्टूबर 2020 से शुरू होने वाले चीनी सीजन में कुल उत्पादन 31 मिलियन टन को छूने की उम्मीद है। मॉनसून समय पर और सामान्य होने की उम्मीद है, जो निश्चित रूप से चीनी उत्पादन को बढ़ावा देगा। उन्होंने कहा की, प्रमुख गन्ना बेल्ट में टिड्डियों का हमला एक चिंता का विषय है और इस हमले को समय पर अच्छी तरह से नियंत्रित किया जाना चाहिए।

चीनी की खरीद के दौरान किए गए विभिन्न अतिरिक्त उपायों पर टिप्पणी करते हुए, चटर्जी ने कहा, 21 दिन के अचानक लागु किये गये देशव्यापी लॉकडाउन के कारण चीजें रातोंरात बदल गईं। एक बार स्थिति सामान्य होने के बाद, चीनी मिलों सहित सभी संगठनों को इस बात पर ध्यान देने की आवश्यकता है कि, उद्योग फिर एक बार पटरी पर कैसे लाया जाये, जिससे खरीद-बिक्री सामान्य हो जाए। लॉकडाउन पूरी तरह से खत्म होने के बाद हर व्यवसाय के लिए एक अलग संदर्भ होगा, लेकिन खरीद और आपूर्ति श्रृंखला के कार्य, परिवर्तन के लिए अवसरों और जरूरतों की पहचान करने और श्रृंखला में आपूर्तिकर्ताओं और भागीदारों के माध्यम से इन समायोजन को सुविधाजनक बनाने के लिए महत्वपूर्ण होंगे।

चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य में वृद्धि की अफवाहों के कारण थोक उपभोक्ताओं द्वारा चीनी की कितनी स्टॉकिंग की गई है या हो सकती है, इस पर बोलते हुए, उन्होंने कहा, “मैंने सुना है कि, सरकार चीनी की ‘एमएसपी’ बढ़ाने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। जिससे किसानों को लगभग 22,000 करोड़ रुपये के गन्ने का बकाया चुकाने में मदद मिलेगी। चीनी मिलों को इससे निश्चित रूप से फायदा होगा और उपभोक्ताओं को इसके साथ रहना होगा। हमारे अनुमानों के अनुसार, थोक खरीदारों ने अधिक स्टॉकिंग नहीं किया होगा, क्योंकि हर कोई महामारी की स्थिति के कारण पैसा बचा रहा है।

यह पूछे जाने पर कि अनलॉक शुरू होने के बाद और आगे आने वाले प्रमुख हिंदू त्योहारों के साथ चीनी की मांग को कैसे देखते है, श्री चटर्जी ने जवाब दिया की, “अनलॉक” की शुरुआत के साथ ही बिस्कुट और कन्फेक्शनरी सहित अन्य श्रेणियों में मांग बढ़ गई हैं। डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों के प्रति लोगों की डिमांड में स्पष्ट बदलाव आया है। जो कुछ भी पैक किया जाता है, या प्रोसेस किया जाता है उसमें कुछ हदतक चीनी सामग्री होती है, इनमें केचप, पेय पदार्थ, खाने के लिए तैयार चीजें, स्नैक्स आदि शामिल हैं, इसलिए चीनी के इस अप्रत्यक्ष उपभोग से भारत में समग्र चीनी की खपत को बढ़ावा मिलेगा। अगस्त से नवंबर महीने के दौरान गणेश चतुर्थी, ओणम, दशहरा और दिवाली आदि त्योहारों का दौर जारी है। विवाह के लिए शुभ मुहूर्त भी सितंबर के बाद होंगे, हालांकि सुरक्षा मानदंडों के भीतर होने वाले सीमित समारोहों के लिए एक चुनौती होगी। कुल मिलाकर हम आने वाले महीनों में प्रतिबंधों में आसानी के साथ चीनी की मांग में बढ़ोतरी देखते हैं।

चीनी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होने पर कई अभियान चलाए जा रहे हैं, इस विवादित विषय पर अपना दृष्टिकोण साझा करने और आईटीसी कैसे इसका सामना कर रहा है और अपने उत्पादों में विविधता ला रहा है, उन्होंने कहा, “हमारा मानना है कि दुश्मन चीनी नहीं है। स्वस्थ जीवन को सक्षम बनाने में खाद्य कंपनियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। कंपनियां निरंतर उत्पाद सुधार के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो भोजन के विकल्प उपलब्ध कराने के लक्ष्य के साथ लोगों को स्वस्थ, संतुलित आहार मुहैया कराने में मदद करते हैं। उन्होंने कहा की, उपभोक्ता को सुरक्षित और पौष्टिक भोजन सुनिश्चित करने और प्रदान करने के हमारे प्रयास के भाग के रूप में, हम अपने उत्पाद पोर्टफोलियो के पोषक प्रोफाइल का मूल्यांकन और सुधार करने के लिए निरंतर काम करने की प्रतिज्ञा करते हैं। उपभोक्ताओं को एक अच्छा आहार विकल्प बनाने में मदद करना हमारी साझा जिम्मेदारी है। इसके लिए, हम खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) और द ईट राइट मूवमेंट (TERM) के के साथ काम करने के अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हैं, और उपभोक्ता जागरूकता पहलों का समर्थन करते हैं।

आईटीसी लिमिटेड उपभोक्ताओं को सुरक्षित, पौष्टिक और बेहतर खाद्य उत्पाद प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। एक जिम्मेदार कंपनी होने के नाते, हमने कई खाद्य उत्पादों को सकारात्मक पोषण लाभों के साथ लॉन्च किया है, जैसे कि आशीर्वाद आटा रेंज के तहत हमने आटा, शुगर फ्री आटा, मल्टीग्रेन आटा। द इट राइट मूवमेंट (TERM) का समर्थन करने के लिए हम इस बात की पुष्टि करते हैं कि हमने निम्नलिखित लक्ष्यों के अनुसार हमारे खाद्य श्रेणियों में नमक / सोडियम, चीनी और फैट को कम करके हमारे उत्पादों में सुधार करने की पहल की है।

द इट राइट मूवमेंट (TERM) …

नमक: 2020 तक हम अपने स्नैक्स और इंस्टेंट नूडल्स पोर्टफोलियो के तीन-चौथाई में मौजूदा स्तरों से 5% कम कर देंगे। 2023 तक हमारे वर्तमान स्नैक्स और नूडल्स पोर्टफोलियो के तीन-चौथाई में 5% की कमी होगी।

चीनी: 2020 तक हम अपने बिस्कुट और पेय पदार्थों के पोर्टफोलियो के तीन चौथाई में मौजूदा स्तर से 5% चीनी को कम करेंगे। 2023 तक, पेय पदार्थों के तीन-चौथाई पोर्टफोलियो में अतिरिक्त चीनी की 5% कमी होगी।

फैट : हमारे सभी खाद्य उत्पाद जहां ट्रांस-फैट हाइड्रोजिनेटेड वेजिटेबल तेल से उत्पन्न होते हैं, वे राष्ट्रीय विनियमन के अनुसार प्रति सेवारत आधार पर “ट्रांस-फैट-फ्री” हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here