जल संकट से निपटने की राष्ट्रीय योजना बनायें सरकार: विपक्ष

767

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नयी दिल्ली १ जुलाई (UNI) राज्यसभा में सत्त्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्यों ने देशव्यापी जलसंकट पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए आज सरकार से इस पर तुरंत कार्रवाई करने की मांग की और जल संरक्षण पर राष्ट्रीय योजना तैयार करने को कहा।

आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने सदन में ‘देश में पेय जल की अापूर्ति सहित जल संकट से संबंधित चुनौतियों’ पर चर्चा शुरू करते हुए कहा कि दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में जलसंकट ने गंभीर रुप धारण कर लिया है। इस पर तत्काल कदम उठाने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि सभी बस्तियों तक पेयजल पहुंचाने में बुनियादी ढ़ांचे की कमी सबसे बड़ी चुनौती है और इससे निपटने में केंद्र सरकार को सहयोग करना होगा।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के यमुना जल संग्रहण क्षेत्र में वर्षा जल का संचयन करने से इस समस्या से काफी हद तक निपटा जा सकता है लेकिन इसके लिए केंद्र सरकार की अनुमति तथा सहयोग की जरुरत होगी। केंद्र को राष्ट्रीय राजधानी के लोगों को पेयजल उपलब्ध कराने के लिए दिल्ली सरकार का सहयोग करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड में पेयजल की स्थिति बहुत खराब है और लोगों को असहनीय स्थिति का सामना करना पड़ृ रहा है। इसके लिए उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश सरकार को भी कदम उठाने चाहिए।

भारतीय जनता पार्टी के सत्यनारायण जटिया ने जल संकट की चर्चा करते हुए कहा कि सरकार जल संकट से निपटने पर जाेर दे रही है। लेकिन इसके लिए व्यापक स्तर पर काम करना होगा। आने वाले समय में पेयजल की मांग को देखते हुए जल संरक्षण पर जोर देना होगा। नदियों को आपस में जोड़ने पर जोर देना चाहिए। इसके बेहतर परिणाम सामने आएगें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here