मलेशिया द्वारा भारत से चीनी खरीद के बाद दोनों देशों के रिश्तों में आ रही है मिठास

267

मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री मोहम्मद महातिर के कारण रिश्तों में कड़वाहट आने के बाद अब भारत और मलेशिया के बीच संबंध फिर से अच्छे होने के संकेत मिल रहे हैं। मलेशिया ने हाल के महीनों में नई दिल्ली से चावल और चीनी की खरीद में वृद्धि करके रिश्तों को और मजबूत बनाने के पहल शुरू की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मलेशिया में भारत के राजदूत मृदुल कुमार मार्च में नए मंत्रिमंडल के गठन के एक सप्ताह के भीतर नए प्रधानमंत्री मुहीदीन यासिन और विदेश मंत्री हिशामुद्दीन हुसैन से मिलने वाले पहले विदेशी दूत थे और दोनों पक्षों ने संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए पर्दे के पीछे से काम किया।

खबरों के मुताबिक, मलेशिया ने मई-जून के लिए 100,000 टन चावल के लिए भारत के साथ एक करार किया है, जबकि पिछले साल भारत से चावल का कुल आयात लगभग 85,000 टन था। देश के प्रमुख परिष्कृत चीनी उत्पादक एमएसएम मलेशिया होल्डिंग्स ने पिछले साल भारत से लगभग 88,000 मीट्रिक टन कच्ची चीनी खरीदी, जबकि इस साल जनवरी-मार्च तिमाही के लिए उसने 130,000 मीट्रिक टन कच्ची चीनी की खरीद की। कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद, भारत सरकार ने मलेशिया के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन और पेरासिटामोल की आपूर्ति को भी मंजूरी दे दी। मलेशिया दक्षिण पूर्व एशिया में भारत के प्रमुख व्यापारिक साझेदारों में से एक है।

भारत के कश्मीर और नागरिकता (संशोधन) अधिनियम पर बार-बार आलोचना के साथ विरोध करने वाले महातिर के कारण बिगड़ते रिश्ते फिर से दुरुस्त करने के लिए कदम उठाए जा रहे है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इंडोनेशिया के बाद दुनिया के दूसरे सबसे बड़े उत्पादक और निर्यातक देश मलेशिया से भारत जून-जुलाई की अवधि के लिए 200,000 टन पाम ऑयल खरीद रहा है। इस वर्ष की शुरुआत में, दुनिया में खाद्य तेलों के सबसे बड़े खरीदार भारत ने, मलेशिया से परिष्कृत पाम तेल के आयात को प्रभावी ढंग से बंद करने के लिए अपने नियमों को बदल दिया था।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here