महाराष्ट्र में 20 से 25 दिनों में अधिकांश चीनी मिलों द्वारा पेराई खत्म करने का अनुमान

428

महाराष्ट्र के पश्चिमी इलाके में तेज बाढ़ और मराठवाडा में सूखे के कारण गन्ना फसल क्षतिग्रस्त हुई थी, और तो और मराठवाडा में सूखे के कारण काफी सारे गन्ने का इस्तेमाल पशु शिविरों में चारे के रूप में किया गया, जिसका सीधा असर पेराई पर दिखाई दे रहा है। गन्ना कटाई श्रमिक की समस्या ने भी चीनी मिलों को परेशान किया है।

इसका असर चीनी उत्पादन पर भी हुआ है। राज्य की चीनी मिलों ने 13 फरवरी, 2020 तक 390.82 लाख टन गन्ना पेराई कर के 10.83 चीनी रिकवरी के साथ 423.42 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है, जो की पिछले सीजन के इसी अवधि के तुलना में कम है।

वर्तमान चीनी सीजन के दौरान राज्य में 143 मिलों ने पेराई सत्र में हिस्सा लिया था, और उनमे से औरंगाबाद विभाग के 5, और अहमदनगर विभाग के 3 चीनी मिलों का पेराई सत्र खत्म हुआ है। अब यह संभावना है की, आगे 20-25 दिनों के भीतर अधिकांश मिलों का सीजन खत्म हो जाएगा।

इस बार महाराष्ट्र में बाढ़ और सूखे के कारण गन्ना उत्पादन पर काफी असर पड़ा है और साथ ही साथ, राज्य में राजनीतिक अनिश्चितता के कारण गन्ना पेराई सत्र में देरी हुई है। महाराष्ट्र में चीनी मिलों ने राज्य के राज्यपाल बीएस कोश्यारी से अनुमति मिलने के बाद आधिकारिक तौर पर गन्ना पेराई सीजन शुरू कर दिया था। राज्यपाल ने 22 नवंबर को आधिकारिक रूप से सीजन शुरू करने की अनुमति दी थी। देरी से सीजन शुरू होने के कारण चीनी उत्पादन में काफी गिरावट देखि जा सकती है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here