चीनी मिल शुरू करने के मामले में गन्ना किसानों के दो गुटों में झड़प के बाद बैठक बीच में ही खत्म

157

मंड्या : मायशुगर (मायशुगर शुगर कंपनी लिमिटेड) मिल के भाग्य का फैसला करने के लिए चीनी और श्रम मंत्री ए. शिवराम हेब्बार की मौजूदगी में बुधवार को आयोजित बैठक किसानों के दो गुटों में हुई झड़प के बाद बीच में ही खत्म हुई। मिल के परिसर में बुलाई गई बैठक का उद्देश्य दशकों पुरानी मिल में गन्ना पेराई शुरू करने के लिए हितधारकों की राय लेना था। मिल ने पिछले कई पेराई सत्रों से चीनी का उत्पादन नहीं किया है। गन्ना आपूर्तिकर्ता संघ के नेता चाहते थे कि, राज्य सरकार मायशुगर के संचालन और रखरखाव को आउटसोर्स करे और मिल को चलाए, जबकि मंड्या जिला रयथ हित समिति के प्रतिनिधियों ने मिल के “संपूर्ण या आंशिक निजीकरण” का कड़ा विरोध किया।

गन्ना आपूर्तिकर्ताओं ने कहा कि मायशुगर बंद पड़ने से गन्ना किसानों की आजीविका को प्रभावित कर रही है। ऑपरेशन की आउटसोर्सिंग और इसके रखरखाव से मिल एक लाभकारी इकाई बन जाएगी। लेकिन, रयथ हित समिति के अध्यक्ष, पूर्व सांसद जी. मेड गौड़ा और अन्य लोगों ने मिल के निजीकरण के खिलाफ अपने विचार व्यक्त किए।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here