तमिलनाडु की चीनी मिल कर रही है महाराष्ट्र के गन्ना कटाई मजदूरों की देखभाल

142

मदुराई : थेनी जिले के निजी चीनी मिल में महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले से आए गन्ना कटाई श्रमिक लॉकडाउन के कारण फंस गयें है, जिनमे महिलाओं और बच्चों सहित कुल 103 लोग हैं। 24 मार्च से लॉकडाउन के कारण, गन्ना कटाई मजदूर अपने घरों को लौटने में असमर्थ थे। जिसके चलते चीनी मिल में श्रमिकों के लिए भोजन और निवास की व्यवस्था की गई है, और स्वास्थ्य विभाग द्वारा उनकी कोरोना वायरस जांच कराई गई। शनिवार को, कलेक्टर एम. पल्लवी बलदेव ने कुंबुम में निजी स्कूल का दौरा किया, जहां गन्ना श्रमिक रह रहे थे। बलदेव ने उनसे सुविधाओं और भोजन के बारे में पूछताछ करने के बाद कहा की जब तक कि स्थिति में सुधार नहीं हो जाता, सरकार उन्हें हरसंभव सहायता देगी।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि, 750 किलोग्राम गन्ना काटने के लिए श्रमिकों को प्रतिदिन 500 रुपयों का भुगतान किया जाता है। पेराई सीजन के दौरान हर साल, अपने परिवार के साथ गन्ना श्रमिक यहां आते हैं। पेराई पूरी करने के बाद, वे अपने घर चले जाते। हालांकि, जैसे ही कर्फ्यू की घोषणा की गई, उन्हें यहां रहना पड़ गया। मिल ने भोजन और आवास प्रदान किया है और अधिकारियों ने उन्हें गेहूं, प्याज, तेल और अन्य सब्जियां प्रदान कीं। कलेक्टर ने जिले के कुछ अस्पतालों का भी निरीक्षण किया। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ एक ब्रीफिंग में, कलेक्टर ने उनसे 10 से 15 दिनों के लिए सतर्क रहने और दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करने की अपील की।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here